रांची के मैक्लुस्कीगंज में अमेरिकी नागरिक का शव फांसी से लटकता मिला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2022   08:18
रांची के मैक्लुस्कीगंज में अमेरिकी नागरिक का शव फांसी से लटकता मिला
Prabhasakshi

झारखंड की राजधानी रांची के प्रसिद्ध एंग्लो-इंडियन इलाके मैक्लुस्कीगंज थाना क्षेत्र स्थित झारखंड बांग्ला में 70 वर्षीय अमेरिकी नागरिक मारकोस लेथरडेल का शव रविवार को फांसी के फंदे से लटकता मिला।

रांची। झारखंड की राजधानी रांची के प्रसिद्ध एंग्लो-इंडियन इलाके मैक्लुस्कीगंज थाना क्षेत्र स्थित झारखंड बांग्ला में 70 वर्षीय अमेरिकी नागरिक मारकोस लेथरडेल का शव रविवार को फांसी के फंदे से लटकता मिला। खलारी क्षेत्र के पुलिस उपाधीक्षक अनिमेष नैथानी ने बताया कि मारकोस का शव फांसी के फंदे से झूलता मिलने के बाद मुकदमा दर्ज किया गया है।

इसे भी पढ़ें: भारतीय मूल के लोग अगले 25 साल में भारत की प्रगति का हिस्सा बनेंः सीतारमण

उन्होंने बताया कि पूरे मामले की जांच की जा रही है, जिसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। नैथानी ने बताया कि मारकोस लेथरडेल मूल रूप से कनाडा के रहने वाले थे और उनके पास अमेरिका की भी नागरिकता थी। उन्होंने बताया कि मारकोस की मौत की सूचना कनाडा और अमेरिकी दूतावास को दे दी गई है। अनिमेष नैथानी के अनुसार, मारकोस की पूर्व पत्नी अमेरिका में रहती हैं और दोनों में बातचीत होती थी।

इसे भी पढ़ें: भारतीय लोकतंत्र समावेशी विकास का ‘आदर्श उदाहरण’ : ओम बिरला

घटनास्थल से कथित तौर पर एक सुसाइड नोट मिला है जिसमें मारकोस ने अपनी मौत के लिए किसी को दोषी नहीं बताया है। अधिकारी ने बताया कि मारकोस की हैंडराइटिंग का मिलान सुसाइड नोट से किया जाएगा। उन्होंने बताया कि मारकोस लेथरडेल मैक्लुस्कीगंज में नवंबर 2021 से अपने पूर्व परिचित के गेस्ट हाउस में रह रहे थे। मारकोस के करीबी कैलाश यादव के अनुसार वे उनके परिवार के सदस्य की तरह थे। मारकोस विदेश से मैक्लुस्कीगंज आना-जाना करते रहते थे।

कैलाश यादव ने बताया कि इस बार लंबे समय के बाद मारकोस नवंबर 2021 में मैक्लुस्कीगंज आए। कैलाश यादव के मुताबिक, घटना के दिन वे अपने परिवार के साथ रांची में थे। शनिवार को मारकोस की पूर्व पत्नी ने अमेरिका से फोन कर कैलाश को बताया कि मारकोस ठीक नहीं हैं जिसके बाद वे तुरंत रांची से वापस मैक्लुस्कीगंज लौट आए, जहां उनकी मौत का पता चला।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...