विराट कोहली की तरह ही अमित शाह भी पीते हैं 850 रुपये की कीमत वाला मिनरल वाटर , गोवा के मंत्री ने किया दावा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 11, 2022   11:16
विराट कोहली की तरह ही अमित शाह भी पीते हैं 850 रुपये की कीमत वाला मिनरल वाटर , गोवा के मंत्री ने किया दावा
ani

गोवा के कृषि मंत्री रवि नाइक ने मंगलवार को कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को उनकी गोवा यात्रा के दौरान 850 रुपये की ‘मिनरल वाटर’ (पानी) की बोतल दी गई थी और इसे पणजी से लगभग 10 किलोमीटर दूर स्थित एक शहर से लाया गया था।

पणजी। गोवा के कृषि मंत्री रवि नाइक ने मंगलवार को कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को उनकी गोवा यात्रा के दौरान 850 रुपये की ‘मिनरल वाटर’ (पानी) की बोतल दी गई थी और इसे पणजी से लगभग 10 किलोमीटर दूर स्थित एक शहर से लाया गया था। नाइक ने इस महंगी खरीद का उल्लेख गोवा में वर्षा जल संचयन पर जोर देने के लिए किया और समझाया कि भविष्य में पानी कैसे एक दुर्लभ और कीमती संसाधन बन जाएगा। नाइक ने दक्षिण गोवा में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘जब अमित शाह गोवा में थे (फरवरी विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए), उन्होंने हिमालय (ब्रांड) की पानी की बोतल मांगी। फिर इसे मापुसा (पणजी से लगभग 10 किमी दूर) से लाया गया।’’

इसे भी पढ़ें: शराब का नशा होगा डबल! दिल्ली वालों के लिए VIP ठेके खोलने जा रही हैं केजरीवाल सरकार

उन्होंने कहा कि शाह के लिए खरीदा गया ‘मिनरल वाटर’ 850 रुपये प्रति बोतल है। नाइक ने कहा, ‘‘सितारा होटलों में उपलब्ध मिनरल वाटर की बोतलों की कीमत 150 से 160 रुपये के बीच होती है। पानी इतना महंगा हो गया है।’’ गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री नाइक पूर्व में पानी जमा करने के लिए नदियों पर बांध बनाने पर जोर दे चुके हैं। उन्होंने कहा कि इसे खाड़ी देशों को ईंधन के बदले बेचा जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘सरकार पूरे राज्य में बांध बना सकती है, जहां भी पहाड़ हैं और पानी जमा कर सकते हैं।’’ उन्होंने चेतावनी दी कि लोग भविष्य में पानी की कमी के कारण लड़ेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।