अमित शाह ने की नीतीश और सोनोवाल से बात, महानंदा नदी में बढ़ते जलस्तर के बारे में ली जानकारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 28, 2020   21:44
अमित शाह ने की नीतीश और सोनोवाल से बात, महानंदा नदी में बढ़ते जलस्तर के बारे में ली जानकारी

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात कर महानंदा नदी के बढ़ते जलस्तर के बारे में पूछा और उन्हें राज्य की जनता की सुरक्षा के लिये केन्द्र की ओर से सभी तरह की मदद मुहैया कराने का आश्वासन दिया।

नयी दिल्ली। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात कर महानंदा नदी के बढ़ते जलस्तर के बारे में पूछा और उन्हें राज्य की जनता की सुरक्षा के लिये केन्द्र की ओर से सभी तरह की मदद मुहैया कराने का आश्वासन दिया। इसके अलग, गृह मंत्री ने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और मंत्री हिमंत बिस्व सरमा से भी बात कर ब्रह्मपुत्र नदी का जलस्तर बढ़ने से पैदा हुए चिंताजनक हालात की जानकारी ली। शाह ने ट्वीट किया, बिहार में महानंदा नदी के बढ़ते जलस्तर को लेकर मैंने मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी से बात की और उन्हें बिहार की जनता की सुरक्षा के लिए केंद्र सरकार की ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन दिया।

इसे भी पढ़ें: अमित शाह ने 10 हजार बिस्तरों वाले कोविड केयर सेंटर का किया दौरा, CM केजरीवाल भी मौजूद थे

शाह ने एक और ट्वीट किया, असम के मुख्यमंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल और श्री हिमंत बिस्व सरमा से बात कर ब्रह्मपुत्र नदी के चिंताजनक हालात तथा गुवाहाटी के निकट हुए भूस्खलन के बारे में पूछा। राज्य को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है। मोदी सरकार असम की जनता के साथ दृढ़ता से खड़ी है। नेपाल में भारी बारिश के कारण महानंदा नदी में जलस्तर बढ़ने के साथ ही महानंदा और बागमती नदी घाट के बीच जलस्तर बढ़ने की संभावना है। वहीं असम में बाढ़ से शनिवार को दो और लोगों की मौत के बाद हालात खराब हो गए हैं। 21 जिलों में 4.6 लाख से अधिक लोग इससे प्रभावित हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।