एएन-32 दुर्घटना: फ्लाइट लेफ्टिनेंट मोहित गर्ग का अंतिम संस्कार

an-32-accident-flight-lt-mohit-garg-funeral
दुर्घटनास्थल से बुधवार को छह शव और शेष सात शव बृहस्पतिवार को बरामद कर लिये गये थे। यहां अग्रसेन कॉलोनी स्थित उसके आवास पर तिरंगे में लिपटा हुआ गर्ग का पार्थिव शरीर शुक्रवार सुबह पहुंचा।

पटियाला। अरूणाचल प्रदेश में हाल ही में दुर्घटनाग्रस्त हुई एएन-32 विमान में जान गंवाने वाले 13 वायुसेना कर्मचारियों में से एक फ्लाइट लेफ्टिनेंट मोहित गर्ग को अश्रुपूर्ण विदाई देने के लिए शुक्रवार को यहां समाना में भारी संख्या में लोग एकत्र हुए। समाना की श्मशान भूमि में पूरे राजकीय सम्मान के साथ मोहित को अंतिम विदाई दी गई। भारतीय वायु सेना ने अरूणाचल प्रदेश में सेआंग जिले के परी पहाड़ियों में एएन 32 विमान के दुर्घटनास्थल से सभी 13 लोगों का शव बरामद करने का काम बृहस्पतिवार को पूरा कर लिया।

इसे भी पढ़ें: एएन-32 की खोज जारी, एक दिन बाद भी नहीं मिला कोई सुराग

दुर्घटनास्थल से बुधवार को छह शव और शेष सात शव बृहस्पतिवार को बरामद कर लिये गये थे। यहां अग्रसेन कॉलोनी स्थित उसके आवास पर तिरंगे में लिपटा हुआ गर्ग का पार्थिव शरीर शुक्रवार सुबह पहुंचा। पंजाब कैबिनेट के मंत्री विजय इंदर सिंगला के साथ ही वायुसेना और पुलिस और नागरिक प्रशासन के कई बड़े अधिकारी शहीद को आखिरी सलाम देने के लिये मौजूद थे। मोहित के छोटे भाई अश्वनी गर्ग ने अंतिम संस्कार किया।

इसे भी पढ़ें: भारतीय वायुसेना का एएन-32 विमान लापता, 13 लोग हैं सवार

मोहित गर्ग (27) की एक साल पहले शादी हुई थी और उसकी पत्नी आस्था असम में एक बैंक में तैनात थीं। असम के जोरहाट से 3 जून को अरुणाचल प्रदेश के मेन्चुका के लिए विमान के उड़ान भरने के लगभग 30 मिनट बाद दुर्घटना में रूसी निर्मित एएन-32 में सवार सभी 13 कर्मियों की मृत्यु हो गई थी। इस महीने की शुरूआत में अरुणाचल प्रदेश में एएन -32 दुर्घटना में जान गंवाने वाले वायु सेना के सभी 13 कर्मचारियों को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी शुक्रवार को श्रद्धांजलि दी। कुछ शहीदों के शवों को दिल्ली भी लाया गया जहां से उन्हें उनके पैतृक निवास स्थान भेजा जाएगा। सिंह ने पालम तकनीकी क्षेत्र में मारे गए कर्मियों के परिवारों से भी मुलाकात की। उन्होंने कहा कि एएन-32 में मारे गए वायु सेना के कर्मचारियों के परिवारों और दोस्तों के साथ मुलाकात की।

इसे भी देखें-

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़