एएन-32 विमान हादसा: वायुसेना कर्मियों के पार्थिव शरीर उनके गृहनगर पहुंचाए गए

an-32-aircraft-incident-the-body-of-af-personnel-was-carried-to-their-hometown
एक रक्षा प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया कि दक्षिणी वायुसेना कमान (एसएसी) के ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ एयर मार्शल बी सुरेश सार्जेंट अनूप कुमार के पार्थिव शरीर को लेने के लिये यहां एयरबेस पहुंचे। अनूप एएन -32 विमान के फ्लाइट इंजीनियर थे।

तिरुवनंतपुरम। अरुणाचल प्रदेश में इस महीने की शुरुआत में एएन-32 विमान हादसे में जान गंवाने वाले वायुसेना के तीन कर्मियों के पार्थिव शरीर असम के जोरहाट से विशेष विमानों के जरिये से उनके गृह नगर पहुंचाये गये। केरल के अलनचेरी के निवासी सार्जेंट अनूप कुमार और कन्नूर के अनजाराकांडी निवासी नायक शरीन के पार्थिव शरीर उनके गृह नगरों में अंतिम संस्कार के लिये लाये गये।

एक रक्षा प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया कि दक्षिणी वायुसेना कमान (एसएसी) के ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ एयर मार्शल बी सुरेश सार्जेंट अनूप कुमार के पार्थिव शरीर को लेने के लिये यहां एयरबेस पहुंचे। अनूप एएन -32 विमान के फ्लाइट इंजीनियर थे।

इसे भी पढ़ें: लापता एएन-32 विमान में सवार 13 लोगों के वो आखिरी घंटे... हवा से कैसे गिरा खाई में?

अनूप का पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिये येरूर उच्चतर माध्यमिक स्कूल में रखा गया। यहीं से उन्होंने अपनी पढ़ाई की थी। इसके बाद पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिये उनके अलनचेरी में उनके घर ले जाया गया। नायक शरीन के पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिये कन्नूर ले जाया गया। वहीं एएन-32 विमान में नेविगेटर के रूप में तैनात स्क्वॉड्रन लीडर हरिहरन विनोद के पार्थिव शरीर को कोयंबटूर के सुलूर ले जाया गया।

इसे भी पढ़ें: नहीं मिल रहा लापता विमान एएन-32 का कोई सुराग, लगातार आठवें दिन तलाश जारी

हरिहरन का कोयंबटूर में पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। गौरतलब है कि एएन-32 विमान के लापता होने के कई दिन बाद 11 जून को इसका मलबा अरुणाचल प्रदेश में मिला था। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़