अंडमान में आजादी के दीवानों का बनेगा तीर्थ स्थल, युगों-युगों तक याद किए जाएंगे सुभाष बाबू: अमित शाह

अंडमान में आजादी के दीवानों का बनेगा तीर्थ स्थल, युगों-युगों तक याद किए जाएंगे सुभाष बाबू: अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सुभाष बाबू की कीर्ति और पराक्रम को युगो-युगो तक याद किया जाए। इसके लिए अंडमान में उनका स्मारक बनाएंगे और यहां से घोषणा होगी कि हमारी आजादी को कोई छू नहीं सकता है। आजादी लाखों-करोड़ो बलिदानियों के बलिदान से मिली है।

पोर्ट ब्लेयर। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह इन दिनों अंडमान और निकोबार के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। इसी बीच उन्होंने शनिवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वीप से अंडमान-निकोबार के लिए विभिन्न विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। इस मौके पर उनके साथ अंडमान-निकोबार के लेफ्टिनेंट गवर्नर एडमिरल डी. के. जोशी (रिटायर्ड) भी मौजूद रहे। 

इसे भी पढ़ें: अमित शाह ने सेल्युलर जेल को बताया सबसे बड़ा तीर्थ स्थान, बोले- यह भी बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक है 

299 करोड़ की परियोजनाओं का हुआ उद्घाटन

गृह मंत्री ने कहा कि आज यहां 14 परियोजनाओं का उद्घाटन हुआ है जिसकी कुल कीमत 299 करोड़ है। 12 परियोजनाओं का शिलान्यास हुआ है उसकी लागत 643 करोड़ रुपए है। अंडमान के छोटे से द्वीप के अंदर लगभग 1,000 करोड़ रुपए के विकास योजनाओं को शुरू कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि आज जिस ब्रिज का लोकार्पण हुआ है उसका नाम हमने आजाद हिंद फौज ब्रिज नाम देने का निर्णय किया है। मुझे आनंद है कि ब्रिज से गुजरने वाला हर एक व्यक्ति नेताओं जी के 35 हजार किमी से प्रवास का, उनके पराक्रम को हमेशा श्रद्धांजलि देते हुए एक छोर से दूसरे छोर जाएगा। इस दौरान उन्होंने जल क्षेत्र में हुए कार्यों की भी बात कही। 

इसे भी पढ़ें: मोदी ने भारतीय पासपोर्ट की ताकत बढ़ा दी : अमित शाह 

गृह मंत्री ने कहा कि यह स्थान आजादी के दीवानों का महातीर्थ है और अब युवा पीढ़ी के लिए तीर्थस्थान बन जाए इस प्रकार की सभी सुविधाएं अंडबान में करने का निर्णय किया है और इसमें ज्यादा समय भी नहीं लगेगा।  

सुभाष बाबू को युगो-युगो तक किया जाएगा याद 

उन्होंने कहा कि सुभाष बाबू की कीर्ति और पराक्रम को युगो-युगो तक याद किया जाए। इसके लिए अंडमान में उनका स्मारक बनाएंगे और यहां से घोषणा होगी कि हमारी आजादी को कोई छू नहीं सकता है। आजादी लाखों-करोड़ो बलिदानियों के बलिदान से मिली है। आजादी के अमृत महोत्सव और सुभाष बाबू के 125 वर्ष पर यह काम हुआ है मुझे इसका आनंद है। 

सुनिए उन्होंने क्या कुछ कहा:-





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।