मंच पर आने से भड़के केरल के मौलवी ने मेधावी छात्रा का किया अपमान, आरिफ मोहम्मद ने लगाई क्लास

मंच पर आने से भड़के केरल के मौलवी ने मेधावी छात्रा का किया अपमान, आरिफ मोहम्मद ने लगाई क्लास

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने इस घटना को लेकर संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि मैं इस बात से बहुत निराश हूं कि पूरा राजनीतिक नेतृत्व इस पर खामोश हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सिर्फ राजनीतिक नेतृत्व ही नहीं, यहां तक ​​कि बाकी लोग भी इस बारे में चुप हैं।

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने एक स्कूली छात्रा को मंच पर अपमानित किए जाने को लेकर मुस्लिम नेता एमटी अब्दुल्ला मुसलियार की तीखी आलोचना की है। समस्त केरल इय्यातुल उलमा नामक केरल के सुन्नी स्कॉलर के एक संगठन के सदस्यों ने मल्पपुरम में एक सम्मान समारोह के दौरान स्कूली छात्रा को मंच पर आमंत्रित करने के दौरान अपमानित किया था। ये घटना कैमरे में कैद हो गई। जिसके बाद इस घटना का वीडियो वायरल होने लगा और सबी ने इसकी आलोचना भी की। 

राज्यपाल ने कही ये बात

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने इस घटना को लेकर संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि मैं इस बात से बहुत निराश हूं कि पूरा राजनीतिक नेतृत्व इस पर खामोश हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सिर्फ राजनीतिक नेतृत्व ही नहीं, यहां तक ​​कि बाकी लोग भी इस बारे में चुप हैं। मैं हर पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व से आगे आने और हमारी बेटियों के सम्मान और सम्मान की रक्षा करने की अपील करता हूं।  उन्होंने राज्य में नेतृत्व की चुप्पी पर कहा, ‘‘मुझे लगता है कि मैंने उनसे कहीं ज्यादा कहा है।’’ 

इसे भी पढ़ें: नहीं थम रही कोरोना की रफ्तार, 24 घंटे में 3,451 नए केस, केरल में सबसे ज्यादा मौतें

क्या है पूरा मामला

वायरल हुए वीडियो में एसकेजेयू के सदस्यों को एक लड़के को पुरस्कार देते हुए दिखाया गया है। इसके बाद एक लड़की को अवॉर्ड देने के लिए मंच पर बुलाया जाता है। लेकिन इस दौरान मुस्लिम नेता अब्दुल्ला मुसलियार ने आयोजकों को इसके लिए जमकरा खरी-खोटी सुनाई और धमकाते हुए कहा कि आगे से ऐसा करोगे तो देख  लूंगा। मुसलियार ने आयोजकों से सवाल किया कि लड़की को मंच पर क्यों बुलाया गया। इस दौरान अब्बास अली शिहाब थंगल भी वहीं पर मौजूद थे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।