अनुराग ठाकुर बोले- विपक्ष के काम से लोकतंत्र हो रहा शर्मसार, प्रश्न पूछने से क्यों भाग रहे?

अनुराग ठाकुर बोले- विपक्ष के काम से लोकतंत्र हो रहा शर्मसार, प्रश्न पूछने से क्यों भाग रहे?

विपक्ष लगातार पेगासस जासूसी मामले की जांच की मांग कर रहा है तथा कृषि कानूनों को वापस लिए जाने को लेकर भी आवाज उठा रहा है। इसी को लेकर अब सरकार की ओर से पलटवार किया गया है।

पेगासस जासूसी और तीन कृषि कानूनों को लेकर विपक्ष का केंद्र सरकार के खिलाफ हल्ला बोल जारी है। विपक्ष के हंगामे की वजह से सदन की कार्यवाही नहीं हो पा रही है। राज्यसभा और लोकसभा की कार्यवाही बार-बार स्थगित हो रही है। विपक्ष लगातार पेगासस जासूसी मामले की जांच की मांग कर रहा है तथा कृषि कानूनों को वापस लिए जाने को लेकर भी आवाज उठा रहा है। इसी को लेकर अब सरकार की ओर से पलटवार किया गया है।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि संसद में आज पार्टियों ने अपने पश्नों को रखा लेकिन कांग्रेस और TMC सांसदों ने सदन के स्पीकर पर कागज़ फेंके। संसद में मौजूदा अधिकारियों के ऊपर भी वे चढ़े। यह दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को शर्मसार करने की घटना है। अनुराग ठाकुर ने आगे कहा कि संसद में सरकार विपक्ष के सवालों के उत्तर देने के लिए तैयार है तो कांग्रेस, TMC और अन्य दल संसद में प्रश्न पूछने से क्यों भाग रहे हैं? इनका काम संसद की कार्यवाही में रुकावट पैदा करना है। विपक्ष के काम से लोकतंत्र शर्मसार हो रहा है।

इसे भी पढ़ें: पेगासस जासूसी कांड पर सरकार के खिलाफ विपक्ष की मोर्चाबंदी, राहुल बोले- पीएम ने डाला आपके फोन में हथियार

दूसरी ओर राहुल गांधी ने कहा है कि पेगासस मामले में वह किसी तरह का समझौता नहीं करेंगे। पेगासस को लेकर विपक्षी एकता दिखाई पड़ रहा है। विपक्ष के सभी नेताओं ने मिलकर सरकार को घेरा है। विपक्ष लगातार यह कह रहा है कि सरकार लोकतंत्र के खिलाफ काम कर रही है। राहुल गांधी ने कहा कि हमारी आवाज़ को संसद में दबाया जा रहा है। हमारा एक सवाल है कि क्या केंद्र सरकार ने पेगासस को खरीदा था कि नहीं? क्या केंद्र सरकार ने उसका इस्तेमाल अपने देश के लोगों के ख़िलाफ़ किया था कि नहीं? हम यह जानना चाहते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।