नागालैंड के राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, कहा- सशस्त्र गिरोह चला रहे अपनी अलग सरकारें

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 26, 2020   23:07
नागालैंड के राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, कहा- सशस्त्र गिरोह चला रहे अपनी अलग सरकारें

मुख्यमंत्री नेफियू रियो को लिखे पत्र में राज्यपाल आरएन रवि ने चेताया कि अगर हालात नहीं सुधरे तो वह संविधान के अनुच्छेद 371ए (1)(बी) को लागू करेंगे, जोकि नगालैंड के राज्यपाल को कानून और व्यवस्था के संदर्भ में विशेष जिम्मेदारी देता है।

कोहिमा। नागालैंड के राज्यपाल आरएन रवि ने मुख्यमंत्री नेफियू रियो सरकार के खिलाफ सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि राज्य में सशस्त्र समूह चुनी हुई सरकार की वैधता के समक्ष चुनौती पेश करते हुए बेशर्मी के साथ अपनी सरकारें चला रहे हैं और प्रणाली में विश्वास का संकट पैदा कर रहे हैं। राज्य में ऐसे हालात को विकट करार देते हुए रवि ने कहा कि वह अगस्त 2019 में पदभार ग्रहण करने के बाद से ही बेहद चिंता के साथ कानून एवं व्यवस्था की अनिश्चित स्थिति का बारीकी से निरीक्षण कर रहे हैं। मुख्यमंत्री नेफियू रियो को लिखे पत्र में राज्यपाल ने चेताया कि अगर हालात नहीं सुधरे तो वह संविधान के अनुच्छेद 371ए (1)(बी) को लागू करेंगे, जोकि नगालैंड के राज्यपाल को कानून और व्यवस्था के संदर्भ में विशेष जिम्मेदारी देता है। 

इसे भी पढ़ें: नगालैंड में कोविड-19 से अब तक 330 व्यक्ति संक्रमित, 149 मरीज हो चुके हैं ठीक 

इस बीच, भाजपा की सहयोगी रियो की नेशनल डेमोक्रटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) और विपक्षी नागा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) 16 जून के उस पत्र पर टिप्पणी करने को लेकर बचते रहे, जोकि बृहस्पतिवार से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। मुख्यमंत्री कार्यालय का कोई भी अधिकारी इस बारे में कुछ बोलने को तैयार नहीं है लेकिन मुख्य सचिव टेम्जेन टॉय ने पत्र मिलने पुष्टि की। हालांकि, उन्होंने इस पर कोई भी प्रतिक्रिया देने से इंकार किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।