सेना ने दिल्ली के सरदार पटेल कोविड अस्पताल में अतिरिक्त स्वास्थ्यकर्मी तैनात किये

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2021   16:16
सेना ने दिल्ली के सरदार पटेल कोविड अस्पताल में अतिरिक्त स्वास्थ्यकर्मी तैनात किये

सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवा (एएफएमएस) ने कोविड-19 के बढ़ते मामलों से निपटने के लिये दिल्ली के सरदार वल्लभ भाई पटेल (एसवीपी) कोविड अस्पताल में डॉक्टरों और पराचिकित्सीय कर्मियों समेत अतिरिक्त स्वास्थ्यकर्मियों की तैनाती की है।

नयी दिल्ली। सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवा (एएफएमएस) ने कोविड-19 के बढ़ते मामलों से निपटने के लिये दिल्ली के सरदार वल्लभ भाई पटेल (एसवीपी) कोविड अस्पताल में डॉक्टरों और पराचिकित्सीय कर्मियों समेत अतिरिक्त स्वास्थ्यकर्मियों की तैनाती की है। रक्षा मंत्रालय की तरफ से शनिवार को यह जानकारी दी गई। मंत्रालय के बयान के मुताबिक, “2020 के 294 चिकित्सकों व स्वास्थ्यकर्मियों के मुकाबले 2021 में (एएफएमएस द्वारा) 378 को तैनात किया गया है।” बयान में कहा गया कि इस बार (2021 में) 164 चिकित्सकों को तैनात किया गया है जबकि 2020 में 132 चिकित्सकों को लगाया गया था।

इसे भी पढ़ें: राजनाथ सिंह ने कोविड-19 महामारी के निपटने के रक्षा मंत्रालय के प्रयासों की समीक्षा की

इसमें बताया गया, “पिछले साल सिर्फ 18 विशेषज्ञों की यहां सेवाएं ली गई थीं जबकि इस बार 43 विशेषज्ञ और 12 अति विशिष्टता वाले चिकित्सक तैनात किये गए हैं।” इसमें कहा गया कि इस बार यहां स्वास्थ्यकर्मियों को बेहद अल्प समय के नोटिस पर महज तीन दिन में तैनात किया गया।

इसे भी पढ़ें: पिछले साल से बड़ी है इस बार कोविड-19 की चुनौती, गांवों तक पहुंचने से रोकना है: पीएम मोदी

इसमें कहा गया, “सेना के अस्पतालों में पहले से काम के दबाव के बावजूद इन विशेषज्ञों और अति विशिष्टता वाले चिकित्सकों को एसवीपी में तैनात किया गया है।” रक्षा मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि दिल्ली में 19 अप्रैल को जब एसवीपी केंद्र को कोविड-19 मरीजों के लिये फिर से शुरू किया गया तो उसके 250 बिस्तर महज दो घंटे में भर गए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।