भारतीय सेना ने एलएसी पर बढ़ाई मारक क्षमता, पैंगोंग झील में गश्त के लिए मिलीं आधुनिक नावें

Pangong
ANI
अभिनय आकाश । Aug 16, 2022 7:59PM
अधिकारियों ने कहा कि एलसीए को एक्वेरियस शिप यार्ड लिमिटेड, गोवा द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित किया गया है। इतना ही नहीं, एलएसी के साथ क्षमताओं को बढ़ाने के लिए कई अन्य बड़े टिकट प्लेटफार्मों को शामिल किया गया है।

भारतीय सेना को लद्दाख में नई ताकत मिली है। पैंगोंग लेक के पास भारतीय सेना ने लैंडिंग क्रॉफ्ट असाल्ट का प्रदर्शन किया। सेना के अधिकारियों के अनुसार ये क्रॉफ्ट एक समय में 35 लड़ाकू सैनिकों को ले जा सकती हैं और बहुत कम समय में झीलव के किसी भी क्षेत्र तक पहुंच सकती हैं। अधिकारियों ने कहा कि एलसीए को एक्वेरियस शिप यार्ड लिमिटेड, गोवा द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित किया गया है। इतना ही नहीं, एलएसी के साथ क्षमताओं को बढ़ाने के लिए कई अन्य बड़े टिकट प्लेटफार्मों को शामिल किया गया है। ये प्लेटफॉर्म भारतीय सेना की तैनाती के लिए महत्वपूर्ण हैं।

इसे भी पढ़ें: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सेना को सौंपेंग 'निपुण' समेत स्वदेशी हथियार, आर्मी किसी भी खतरे से निपटने को तैयार

इन्फैंट्री प्रोटेक्टेड मोबिलिटी व्हीकल (आईपीएमवी)

उत्तरी सीमा पर हमारे इन्फैंट्री सैनिकों को बिना सुरक्षा के घूमना खतरनाक साबित हो सकता है। इससे उनकी मोबिलिटी कम हो जाती है। इसलिए टाटा एडवांस सिस्टम ने खास बख्तरबंद वाहन बनाया है। इससे सैनिकों को खतरनाक इलाकों से आना-जाना आसान हो जाएगा। साथ ही उनकी सुरक्षा भी बढ़ जाएगी। ये बख्तरबंद वाहन गोलियों और बारूदी सुरंगों से बचाने में सक्षम है।

इसे भी पढ़ें: विक्रमसिंघे ने श्रीलंका की नौसेना को डोर्नियर विमान उपहार में देने पर भारत का धन्यवाद दिया

क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल

पूर्वी लद्दाख में सैनिकों की गतिशीलता बढ़ाने के लिए इन्फैंट्री मोबिलिटी प्रोटेक्टेड व्हीकल के साथ दूसरा वाहन क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल है। यह सैनिकों की त्वरित तैनाती की सुविधा प्रदान करता है और बहुत तेज प्रतिक्रिया को सक्षम करेगा। वाहन टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स लिमिटेड से खरीदे गए हैं। ये उच्च गतिशीलता, बढ़ी हुई मारक क्षमता और सुरक्षा के साथ दर्जी वाहन हैं। यह हमारी उत्तरी सीमाओं में नैतिक प्रभुत्व बनाने में मदद करेगा। 

अन्य न्यूज़