गलवान में सहकर्मियों को बचाने की कोशिश में महाराष्ट्र के जवान की मौत, पवार ने दी श्रद्धांजलि

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 25, 2020   19:27
गलवान में सहकर्मियों को बचाने की कोशिश में महाराष्ट्र के जवान की मौत, पवार ने दी श्रद्धांजलि

उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने ट्वीट कि महाराष्ट्र के अच्छे बेटे सचिन विक्रम मोरे अपने दो सहकर्मियों को बचाने की कोशिश के दौरान शहीद हो गए। उन्होंने मातृभूमि की सेवा की। गलवान घाटी में जब नदी पर पुल बनाने का काम चल रहा था तो वे नदी के डूब क्षेत्र में गिर पड़े थे।

मुंबई। भारतीय सेना के एक जवान की गलवान घाटी में भारत-चीन सीमा पर एक नदी में गिरे अपने सहकर्मियों को बचाने की कोशिश के दौरान मौत हो गई। गृह राज्य मंत्री सतेज पाटिल ने बृहस्पतिवार को बताया कि जवान सचिन मोरे महाराष्ट्र के नासिक जिले में मालेगांव के रहने वाले थे। पाटिल ने बताया कि मोरे भारत-चीन सीमा पर तैनात थे। एक नदी में गिरे अपने दो सह-कर्मियों को बचाने की कोशिश के दौरान उनकी मौत हो गई। मामले में अधिक विवरण का इंतजार किया जा रहा है। पूर्वी लद्दाख स्थित गलवान घाटी में 15 जून को भारत और चीन के सैनिकों के बीच झड़प हुई थी। इस बीच उपमुख्यमंत्री अजित पवार समेत राकांपा नेताओं ने मोरे को श्रद्धांजलि दी। 

इसे भी पढ़ें: गलवान घाटी पर चीन के दावे पर चिदंबरम ने उठाए सवाल, पूछा- सरकार क्या यथास्थिति कर पाएगी बहाल? 

पवार ने ट्वीट कि  महाराष्ट्र के अच्छे बेटे सचिन विक्रम मोरे अपने दो सहकर्मियों को बचाने की कोशिश के दौरान शहीद हो गए। उन्होंने मातृभूमि की सेवा की। गलवान घाटी में जब नदी पर पुल बनाने का काम चल रहा था तो वे नदी के डूब क्षेत्र में गिर पड़े थे। उन्होंने कहा कि उन्हें श्रद्धांजलि देता हूं। उनकी वीरता को सलाम। गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मोरे की मौत पर दुख जताते हुए कहा कि वह दुख के इस समय में शोकसंतप्त परिवार के साथ खड़े हैं। सार्वजनिक स्वास्थ्य मंत्री राजेश तोपे और राकांपा सांसद सुप्रिया सुले ने भी ट्विटर पर जवान को श्रद्धांजलि दी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।