सियाचिन में तैनात सैनिकों को मिलती है स्पेशल किट और डेढ़ लाख के उपकरण

सियाचिन में तैनात सैनिकों को मिलती है स्पेशल किट और डेढ़ लाख के उपकरण

दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन ग्लेशियर में तैनात भारतीय सेना के जवानों को विषम परिस्थितियों का सामना करने के लिए एक लाख रुपए से ज्यादा की किट दी गई हैं। बता दें कि जनवरी के दूसरे हफ्ते में सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने ने सियाचिन यात्रा के दौरान जवानों की किट-उपकरणों की जांच और समीक्षा की थी।

दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन ग्लेशियर में तैनात भारतीय सेना के जवानों को विषम परिस्थितियों का सामना करने के लिए एक लाख रुपए से ज्यादा की किट दी गई हैं। जबकि किट के साथ ही जवानों को डेढ़ लाख रुपए की कीमत के उपकरण भी मुहैया कराए जाते हैं। जिसके जरिए जवान भारतीय सीमाओं की पहरेदारी कर सकें और दुश्मनों के नापाक मंसूबों को नेस्तनाबूत कर दें।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान ने किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, नियंत्रण रेखा से सटे गांवों पर गोलाबारी

सेना सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जनवरी के दूसरे हफ्ते में सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने ने सियाचिन यात्रा के दौरान जवानों की किट व उपकरणों की जांच और समीक्षा की थी। इस दौरान सेना प्रमुख ने यह भी निर्देश दिया था कि सियाचिन में तैनात जवानों को ठंड से सुरक्षा के लिए हर तरह की सुविधाएं मुहैया कराई जाए। 

इसे भी पढ़ें: जलता असम, PM का हस्ताक्षर और शुरू हुआ घुसपैठियों की पहचान का अभियान

आपको बता दें कि सियाचिन में तैनात सैनिकों के कपड़ों की कीमत प्रति नग 28,000 रुपए है। जबकि सोने के लिए जिस बैग का इस्तेमाल किया जाता है उसकी कीमत 13 हजार रुपए है। 14,000 रुपए के खास तरह के दस्ताने, 12,500 रुपए के मल्टीपर्पज जूते, 50,000 रुपए की कीमत का एक ऑक्सीजन सिलेंडर और 8,000 रुपए का विशेष उपकरण और गैजेट्स जो हिमस्खलन में दबे जवानों को पता लगाने में मदद करता है।

इसे भी देखें: 26 जनवरी 2020 पर मिलिये देश के लिए मर मिटने का जज्बा रखने वाले वीर सैनिकों से





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।