• लगभग 130 भारतीय शांति सैनिकों को ‘उत्कृष्ट प्रदर्शन’ के लिए संयुक्त राष्ट्र पदक से सम्मानित किया गया

यूएनएमआईएसएस द्वारा जारी समाचार लेख में कहा गया है, ‘‘अपने कर्तव्यों को निभाने में, भारतीय शांति सैनिकों ने दक्षिण सूडान के एक अस्थिर हिस्से में अक्सर हिंसक घटनाओं का सामना किया है। बाढ़ और इसके कारण हजारों लोगों का विस्थापन जैसे और भी जटिल मामले हैं।’’

संयुक्त राष्ट्र। दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन (यूएनएमआईएसएस) में तैनात लगभग 130 भारतीय शांति सैनिकों को उनके ‘‘उत्कृष्ट प्रदर्शन’’ के लिए संयुक्त राष्ट्र पदक से सम्मानित किया गया है। भारत संयुक्त राष्ट्र के शांति अभियानों में सैन्य योगदान देने वाले सबसे बड़े देशों में से एक है। दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन ने सोमवार को ट्वीट किया, ‘‘सम्मान स्वीकार करो, भारत के लोगों! दक्षिण सूडान में स्थित और यूएनएमआईएसएस में सेवारत आपके लगभग 135 शांति सैनिकों ने जोंगलेई राज्य और ग्रेटर पिबोर प्रशासनिक क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए संयुक्त राष्ट्र पदक प्राप्त किए हैं।’’ मिशन में सेवारत लगभग 135 भारतीय और 103 श्रीलंकाई शांति सैनिकों को उनकी सेवा के लिए सम्मानित किया गया।

इसे भी पढ़ें: UN में बोला भारत, पाकिस्तान समेत सभी देशों के साथ ‘सामान्य’ दोस्ताना संबंध चाहता है देश

यूएनएमआईएसएस द्वारा जारी समाचार लेख में कहा गया है, ‘‘अपने कर्तव्यों को निभाने में, भारतीय शांति सैनिकों ने दक्षिण सूडान के एक अस्थिर हिस्से में अक्सर हिंसक घटनाओं का सामना किया है। बाढ़ और इसके कारण हजारों लोगों का विस्थापन जैसे और भी जटिल मामले हैं।’’ अबेई, साइप्रस, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, लेबनान, मध्य पूर्व, सोमालिया, दक्षिण सूडान और पश्चिमी सहारा में शांति अभियानों में 5,500 से अधिक भारतीय सैन्य और पुलिसकर्मी काम कर रहे हैं। मार्च 2021 तक, दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन में कुल 19,075 कर्मी तैनात हैं।