योगी आदित्यनाथ का निर्देश, हर जिला अस्पताल में हो रैपिड एंटीजन जांच की व्यवस्था

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 27, 2020   17:02
योगी आदित्यनाथ का निर्देश, हर जिला अस्पताल में हो रैपिड एंटीजन जांच की व्यवस्था

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हर जिला चिकित्सालय में रैपिड एंटीजन जांच की व्यवस्था हो। साथ ही ट्रूनैट मशीन के माध्यम से प्रतिदिन 2,500 से अधिक टेस्ट किए जाएं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में कोविड-19 जांच क्षमता में लगातार वृद्धि करने की हिदायत देते हुए सोमवार को हर जिला अस्पताल में रैपिड एंटीजन जांच की व्यवस्था करने के आदेश दिए। मुख्यमंत्री ने अपने सरकारी आवास पर अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा के दौरान कहा कि 25 लाख तक की जनसंख्या वाले जिलों में प्रतिदिन एक हजार से अधिक तथा 25 लाख से अधिक आबादी वाले जिलों में 1,500 से अधिक जांच एंटीजन के माध्यम से की जायें। उन्होंने कहा कि हर जिला चिकित्सालय में रैपिड एंटीजन जांच की व्यवस्था हो। साथ ही ट्रूनैट मशीन के माध्यम से प्रतिदिन 2,500 से अधिक टेस्ट किए जाएं। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी आज नोएडा-मुंबई और कोलकाता में कोरोना टेस्टिंग लैब्स का करेंगे उद्घाटन, ममता-योगी और उद्धव होंगे शामिल 

मुख्यमंत्री ने अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त तथा अपर मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) को मंगलवार को बरेली और मुरादाबाद मण्डलों में कोविड-19 के मद्देनजर स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति की मौके पर समीक्षा करने के निर्देश दिए। उन्होंने अपर मुख्य सचिव (चिकित्सा शिक्षा) और अपर मुख्य सचिव (ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज) को भी मंगलवार को आगरा तथा अलीगढ़ मण्डलों में स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति की मौके पर समीक्षा करने के निर्देश दिए। बैठक में मुख्य सचिव आर के तिवारी ने मुख्यमंत्री को कानपुर, प्रयागराज, मिर्जापुर तथा झांसी मण्डलों की समीक्षा के निष्कर्षों के बारे में बताया। 

इसे भी पढ़ें: योगी सरकार ने किया बड़ा फेरबदल, कानपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक समेत 15 IPS अधिकारियों का हुआ तबादला 

योगी ने कोविड चिकित्सालयों की व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त बनाए रखने के निर्देश देते हुए कहा कि एल-1 कोविड अस्पतालों में 50 प्रतिशत बिस्तरों पर आक्सीजन की व्यवस्था रहे। एल-2 कोविड चिकित्सालय के सभी बिस्तरों पर आक्सीजन उपलब्ध रहे। एल-3 अस्पताल के सभी बिस्तरों पर आक्सीजन तथा वेंटीलेटर की उपलब्धता रहे। कोविड वार्ड में सीसीटीवी कैमरे अनिवार्य रूप से स्थापित किए जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि एल-1, एल-2 तथा एल-3 कोविड चिकित्सालयों में आवश्यकतानुसार बिस्तरों की संख्या में वृद्धि के लिए एक अधिकारी को प्रभारी के रूप में नामित किया जाए। उन्होंने जरूरत के हिसाब से वेन्टीलेटर की खरीद करने के निर्देश भी दिए हैं। उन्होंने कहा कि घरों में पृथक-वास में रहने वाले मरीजों से निरन्तर संवाद रखा जाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।