अरुण जेटली बोले, चुनावों को प्रभावित नहीं कर सकता झूठ और फर्जीवाड़ा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 24, 2019   10:45
अरुण जेटली बोले, चुनावों को प्रभावित नहीं कर सकता झूठ और फर्जीवाड़ा

आरोप येदियुरप्पा की उस कथित डायरी की फोटोकॉपी पर आधारित हैं जो कर विभाग को सौंपी गई है। जेटली ने कहा कि कांग्रेस द्वारा तैयार और मुहैया फर्जी फोटोकॉपियां येदियुरप्पा की डायरी के रूप में पेश की गईं।

नयी दिल्ली। कांग्रेस पर झूठी और फर्जी फोटोकॉपियों को बी एस येदियुरप्पा की डायरी बताने का आरोप लगाते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को कहा कि झूठ और फर्जीवाड़ा चुनावों को प्रभावित नहीं कर सकते क्योंकि मतदाता नेताओं से ज्यादा बुद्धिमान होते हैं। कांग्रेस ने शुक्रवार को मीडिया में आई उस खबर की लोकपाल से जांच कराने की मांग की थी जिसमें आरोप लगाया गया था कि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने भाजपा के शीर्ष नेताओं को 1800 करोड़ रुपये की रिश्वत दी थी।

आरोप येदियुरप्पा की उस कथित डायरी की फोटोकॉपी पर आधारित हैं जो कर विभाग को सौंपी गई है। जेटली ने कहा कि कांग्रेस द्वारा तैयार और मुहैया फर्जी फोटोकॉपियां येदियुरप्पा की डायरी के रूप में पेश की गईं। जेटली ने कहा, ‘‘झूठ और जालसाजी किसी चुनाव को कभी प्रभावित नहीं कर सकती। मतदाता नेताओं से ज्यादा बुद्धिमान होते हैं, वे उनसे भी ज्यादा बुद्धिमान हैं जो झूठ और फर्जीवाड़ों के ‘कारवां’ पर सवार हैं।’’

इसे भी पढ़ें: सुब्रमण्यम स्वामी का दावा, अर्थशास्त्र नहीं जानते PM मोदी और जेटली

मंत्री ने ‘‘विपक्ष का कारवां एक नये निचले स्तर पर पहुंचा : झूठ से फर्जीवाड़ा तक’’ शीर्षक से अपने ब्लॉग में कुछ मीडिया संगठनों पर झूठ को सही बताने का आरोप लगाया। जेटली ने कहा कि ऐसा लगता है कि दस्तावेज कांग्रेस पार्टी और उसके नेता द्वारा मुहैया कराया गया फर्जीवाड़ा है। भाजपा नेता ने कहा, ‘‘हर दिन नई समस्याओं का सामना कर रही कांग्रेस पार्टी सैम पित्रोदा द्वारा किये गये आत्मघाती गोल से ध्यान भटकाना चाहती थी। उन्होंने बालाकोट पर वायुसेना के लक्षित हमले पर सवाल उठाए थे। झूठ का ‘कारवां’ ‘राहुल बेलआउट (संकट से उबारने)’ के लिए तैयार था।’’ गौरतलब है कि पित्रोदा ने शुक्रवार को पुलवामा आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ सरकार की आक्रामक कार्रवाई पर सवाल उठाए थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।