असदुद्दीन ओवैसी ने PM मोदी और RSS पर साधा निशाना, 1947 के ऑर्गेनाइजर पत्रिका की मांग का किया जिक्र

Asaduddin Owaisi
ANI Image
एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आरएसएस उनकी नींव और उन्हें इससे राष्ट्र के लिए जीने की प्रेरणा मिली। वह हमसे तिरंगा डीपी लगाने और रैलियां निकालने के लिए कह रहे हैं। लेकिन आरएसएस ने आजाद भारत को नकार दिया था।

नयी दिल्ली। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने गुरुवार को हर घर तिरंगा अभियान के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि ऑर्गेनाइजर पत्रिका आरएसएस का मुखपत्र है। जिसके जरिए मांग की गई थी कि राष्ट्रीय ध्वज का रंग भगवा होना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: श्रीलंका की तरह एक रोज प्रधानमंत्री आवास में घुस जाएंगे लोग: ओवैसी ने केंद्र सरकार पर बोला बड़ा हमला 

असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आरएसएस उनकी नींव और उन्हें इससे राष्ट्र के लिए जीने की प्रेरणा मिली। वह हमसे तिरंगा डीपी लगाने और रैलियां निकालने के लिए कह रहे हैं। लेकिन आरएसएस ने आजाद भारत को नकार दिया था। आरएसएस के मुखपत्र ऑर्गनाइज़र ने अपने विचारों को दर्शाते हुए मांग की कि राष्ट्रीय ध्वज का रंग भगवा होना चाहिए।

इस संबंध में समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मैंने अपने ट्वीट के जरिए कहा कि ऑर्गेनाइजर पत्रिका आरएसएस का मुखपत्र है। 17 जुलाई, 1947 को उन्होंने कहा था कि देश के राष्ट्रीय ध्वज का रंग भगवा होना चाहिए। देश के प्रधानमंत्री कहते हैं कि आरएसएस उनकी नींव है, उन्हें इससे प्रेरणा मिली है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा पर बरसे असदुद्दीन ओवैसी, बोले- मुसलमानों के ऊपर नहीं होती पुष्प वर्षा, वे हमारे घरों पर चलाते हैं बुलडोजर

उन्होंने कहा कि आरएसएस पत्रिका ने ये भी कहा है कि झंडे में तीन रंग बुरे हैं। प्रधानमंत्री और भाजपा को बताना चाहिए कि उन्होंने जो कहा है वह सही है या गलत, ये उन्हें स्पष्ट करना चाहिए। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़