अशोक गहलोत का दावा, चुनौतियों के बावजूद विकास में कमी नहीं आने दी

Ashok Gehlot
गहलोत मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से 33.87 करोड़ रुपये की लागत के 52 विकास कार्यों के लोकार्पण व 124 करोड़ रुपये के 126 विकास कार्यों के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे।
जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को कहा कि तमाम विपरीत परिस्थितियों व चुनौतियों के बावजूद राज्य सरकार ने विकास कार्यों में कमी नहीं आने दी और इसने कार्यकाल के पहले दो साल में अपने जन-घोषणा पत्र की 55 प्रतिशत से अधिक घोषणाओं को धरातल पर उतारा है। गहलोत मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से 33.87 करोड़ रुपये की लागत के 52 विकास कार्यों के लोकार्पण व 124 करोड़ रुपये के 126 विकास कार्यों के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘हमारा प्रयास है कि राज्य के हर विधानसभा क्षेत्र में बिना किसी राजनीतिक भेदभाव के समग्र विकास हो। इस दिशा में आज हमने वल्लभनगर, सहाड़ा, राजसमंद और सुजानगढ़ विधानसभा क्षेत्रों के लिए 158 करोड़ रुपये की लागत के 178 विकास कार्यों का लोकार्पण व शिलान्यास किया है।’’ मुख्यमंत्री ने इन चारों विधानसभा क्षेत्रों के दिवंगत विधायकों-मास्टर भंवरलाल मेघवाल, कैलाश त्रिवेदी, किरण माहेश्वरी व गजेन्द्र सिंह शक्तावत का स्मरण करते हुए कहा कि सरकार इन विधायकों द्वारा जनता से किए गए वादों को जरूर पूरा करेगी। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने कहा कि गहलोत के नेतृत्व में सामाजिक सुरक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य हुआ है और एक संवेदनशील मुख्यमंत्री के रूप में उन्होंने विशेष पहचान बनाई है। 

इसे भी पढ़ें: ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर अशोक गहलोत ने सोनिया गांधी की ओर से चढ़ाई चादर

नगर विकास मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि प्रदेशभर में स्वायत्त शासन विभाग के माध्यम से आधारभूत ढांचे को मजबूत करने का काम किया जा रहा है। जलदाय मंत्री बीडी कल्ला, चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा, अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री शाले मोहम्मद, परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, सहकारिता मंत्री उदय लाल आंजना भी इस अवसर पर मौजूद रहे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़