अशोक गहलोत की मांग, कोविड से बचाव के लिए बूस्टर खुराक पर जल्द फैसला करे केन्द्र

Ashok Gehlot
अब कई अन्य राज्यों ने भी बूस्टर डोज के लिए केन्द्र सरकार से मांग की है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी बूस्टर डोज लगाने की सिफारिश की है क्योंकि शुरुआत में टीका लगवा चुके लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता (कोविड के प्रति) कम होता जा रहा है।
जयपुर। राज्य और देश में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को फिर से कहा कि केन्द्र सरकार कोविड से बचाव के लिए ‘बूस्टर खुराक’ के बारे में जल्द फैसला करे। इस संबंध में अखबार में प्रकाशित लेख को साझा करते हुए गहलोत ने ट्वीट किया, ‘‘भारत सरकार से पुन: निवेदन है कि बूस्टर डोज के बारे में जल्द फैसला लेकर दिशा-निर्देश जारी करें।’’ गहलोत के अनुसार, राज्य के कोविड-19 विशेषज्ञ समूह की राय पर प्रधानमंत्री को 19 नवंबर एवं 6 दिसंबर को पत्र लिखकर केन्द्र सरकार द्वारा ‘बूस्टर’ लगाने के संबंध में दिशा-निर्देश जारी करने का निवेदन किया है। 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान में एक फरवरी से सुविधाओं के उपयोग के लिए टीकाकरण अनिवार्य : गहलोत

विशेषज्ञों की राय मानकर हमने सबसे पहले बूस्टर’ की मांग की। मुख्यमंत्री के अनुसार, ‘‘अब कई अन्य राज्यों ने भी बूस्टर डोज के लिए केन्द्र सरकार से मांग की है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी बूस्टर डोज लगाने की सिफारिश की है क्योंकि शुरुआत में टीका लगवा चुके लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता (कोविड के प्रति) कम होता जा रहा है।’’ उल्लेखनीय है कि राज्य में इस समय कोविड के 244 मरीजों का इलाज चल रहा है जिनमें से 43 लोग ओमीक्रोन स्वरूप से संक्रमित हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़