अतिवृष्टि से हुए नुकसान का सर्वेक्षण कर नियमानुसार सहायता दी जाएगी: अशोक गहलोत

Rajasthan survey
प्रतिरूप फोटो
ANI
राजस्‍थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को कहा कि राज्‍य के विभिन्‍न जिलों में हाल में अतिवृष्टि से हुए नुकसान का सर्वेक्षण कर नियमानुसार सहायता दी जाएगी। गहलोत ने शनिवार को अतिवृष्टि प्रभावित करौली जिले का हवाई सर्वेक्षण किया।

जयपुर, 28 फरवरी। राजस्‍थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को कहा कि राज्‍य के विभिन्‍न जिलों में हाल में अतिवृष्टि से हुए नुकसान का सर्वेक्षण कर नियमानुसार सहायता दी जाएगी। गहलोत ने शनिवार को अतिवृष्टि प्रभावित करौली जिले का हवाई सर्वेक्षण किया। आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि उनके साथ आपदा प्रबंधन एवं राहत मंत्री गोविंद राम मेघवाल और पंचायती राज मंत्री रमेश मीणा भी थे। मुख्‍यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘इस वर्ष पूरे राज्‍य में अच्छी बारिश हुई है जिससे फसल को लाभ हुआ है एवं किसानों की उपज बढ़ने की उम्मीद है।

4-5 जिलों की कुछ तहसीलों में अतिवृष्टि भी हुई है जिससे आमजन को परेशानी हुई है लेकिन ईश्वर की कृपा से यहां कोई जनहानि नहीं हुई है। नुकसान का सर्वेक्षण कर नियमानुसार सहायता राशि दी जाएगी।’’ शाम को मुख्‍यमंत्री निवास में मंत्रिपरिषद की बैठक में भी इस बारे में चर्चा हुई। इसमें गहलोत ने बाढ़ से हुए नुकसान का एक ज्ञापन तैयार कर केंद्र सरकार को भेजने के निर्देश दिए। गहलोत ने ट्वीट किया, ‘‘प्रदेश में अतिवृष्टि से हुए नुकसान और बाढ़ प्रभावितों के लिए आवश्यक व्यवस्थाओं को लेकर मंत्रिपरिषद में विस्तृत चर्चा हुई।

संबंधित जिला कलक्टरों को निर्देश दिए गए हैं कि क्षेत्र में जल निकासी तक और बेघर हुए लोगों के लिए अस्थाई आवास व्यवस्था, भोजन व अन्य सुविधाएं निरंतर मुहैया कराई जाएं।’’ मुख्यमंत्री ने ट्वीट में कहा, ‘‘सार्वजनिक एवं निजी सम्पत्तियों, पशुओं और फसल को हुए नुकसान का जल्द से जल्द आकलन कर प्रभावितों को त्वरित सहायता पहुंचाने के भी निर्देश जिला कलक्टर को दिए गए।’’ उन्‍होंने लिखा, ‘‘मुख्य सचिव को जिलों की सभी व्यवस्थाओं, राहत और बचाव कार्यों की नियमित निगरानी और बाढ़ से हुए नुकसान का एक ज्ञापन तैयार कर केंद्र सरकार को भेजने के निर्देश दिए गए।’’ राज्‍य में लगातार बारिश, नदियों के उफान पर आने व बांधों के गेट खोले जाने से राज्‍य के कोटा संभाग के कई जिलों में इस सप्ताह जलभराव के कारण बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़