असम के विधायक का दावा, औरंगजेब ने कामाख्या मंदिर के लिए जमीन दान दी थी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 9, 2021   09:29
असम के विधायक का दावा, औरंगजेब ने कामाख्या मंदिर के लिए जमीन दान दी थी

असम में ‘ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट’ (एआइयूडीएफ) के एक विधायक ने दावा किया है कि गुवाहाटी के कामाख्या मंदिर के लिए मुगल बादशाह औरंगजेब ने जमीन दान दी थी। विधायक के इस बयान के बाद विवाद उत्पन्न हो गया है। मंदिर की वेबसाइट के अनुसार, कामाख्या मंदिर का इतिहास आर्य सभ्यता से पहले का माना जाता है।

नागांव (असम)। असम में ‘ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट’ (एआइयूडीएफ) के एक विधायक ने दावा किया है कि गुवाहाटी के कामाख्या मंदिर के लिए मुगल बादशाह औरंगजेब ने जमीन दान दी थी। विधायक के इस बयान के बाद विवाद उत्पन्न हो गया है। मंदिर की वेबसाइट के अनुसार, कामाख्या मंदिर का इतिहास आर्य सभ्यता से पहले का माना जाता है।

इसे भी पढ़ें: झारखंड : कोरोना वायरस से मरने वालों के परिजन को 50-50 हजार रुपये देगी सरकार

नागांव जिले के ढिंग से विधायक अमीनुल इस्लाम ने कहा, “औरंगजेब ने मां कामाख्या मंदिर के लिए जमीन दान दी थी, यह ‘पवित्र असम’ नामक पुस्तक में साफ लिखा है जो डॉ महेश्वर नियोग ने लिखी थी। यह किताब असम साहित्य सभा से प्रकाशित है।”

इसे भी पढ़ें: फिल्म से लेकर राजनीति तक, जो मिला उसे 'खामोश' करते गए शॉटगन

औरंगजेब ने भारत में 1658 से 1707 के बीच शासन किया था। विधायक ने यह भी दावा किया कि औरंगजेब ने भारत के सैकड़ों मंदिरों को दान दिया था जिसमें वाराणसी के जंगमबाड़ी मंदिर को दी गई 178 हेक्टेयर भूमि भी शामिल है। इस्लाम के इस बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने कहा कि उनकी सरकार इस तरह के आधारहीन बयानों को बर्दाश्त नहीं करेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।