कौन होगा उत्तराखंड में कांग्रेस का CM उम्मीदवार ? हरीश रावत ने कही यह बड़ी बात

कौन होगा उत्तराखंड में कांग्रेस का CM उम्मीदवार ? हरीश रावत ने कही यह बड़ी बात
प्रतिरूप फोटो

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि प्रदेश में तीसरी पार्टी के लिए कोई मौका नहीं है। पहले की पार्टियां धीरे-धीरे गायब हो गई हैं। उनमें यूकेडी भी शामिल है। जिसका संघर्ष का इतिहास रहा है, लोगों ने इतिहास की थैली में धकेल दिया है। इसलिए नई पार्टी के बारे में कोई सवाल नहीं है। यह दिल्ली नहीं है।

देहरादून। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई हैं। इसी बीच पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता हरीश रावत ने आम आदमी पार्टी (आप) पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में तीसरी पार्टी के लिए कोई मौका नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहले जो पार्टियां थीं वो धीरे-धीरे गायब हो गई हैं। 

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड चुनाव से पहले हरक-यशपाल की पार्टी में वापसी से कांग्रेस को बड़ा लाभ 

आम आदमी पार्टी पर बरसे रावत

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि प्रदेश में तीसरी पार्टी के लिए कोई मौका नहीं है। पहले की पार्टियां धीरे-धीरे गायब हो गई हैं। उनमें यूकेडी भी शामिल है। जिसका संघर्ष का इतिहास रहा है, लोगों ने इतिहास की थैली में धकेल दिया है। इसलिए नई पार्टी के बारे में कोई सवाल नहीं है। यह दिल्ली नहीं है।

कौन होगा मुख्यमंत्री उम्मीदवार ?

उन्होंने कहा कि यह दिल्ली नहीं है जहां लोग आएंगे, कुछ कहेंगे और हर जगह इसकी चर्चा होगी। भौगोलिक स्थिति और सभी प्रकार की स्थितियों को समझना और फिर नीति बनाना समय की आवश्यकता है। उन्हें वह समय देना होगा। उन्होंने कहा कि मेरे हाथ में पार्टी ने कैंपेन का नेतृत्व करने का काम सौंपा है। मेरा काम है बहुमत मिले। एक बार बहुमत मिले, उसके बाद कांग्रेस अध्यक्षा हमारे नेता को नामजद करेंगी। 

इसे भी पढ़ें: कौन हैं हरक सिंह रावत की बहू अनुकृति गुसाईं ? लैंसडाउन सीट से लड़ सकती हैं चुनाव 

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अलावा आम आदमी पार्टी (आप) भी चुनावी मैदान में उतर चुकी है। जहां आम आदमी पार्टी ने कर्नल अजय कोठियाल को मुख्यमंत्री का चेहरा बनाया है तो वहीं भाजपा पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में चुनाव लड़ रही है। हालांकि कांग्रेस ने अभी तक स्थिति साफ नहीं की है। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि 10 मार्च को आने वाले चुनाव परिणाम में किसकी सरकार बनती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।