देशभर में सामान्य से 9 फीसदी अधिक बारिश दर्ज, अगस्त में 44 साल में सर्वाधिक हुई बरसात: IMD

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 29, 2020   15:07
देशभर में सामान्य से 9 फीसदी अधिक बारिश दर्ज, अगस्त में 44 साल में सर्वाधिक हुई बरसात: IMD

केंद्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी) के अनुसार देश में 27 अगस्त तक जलाशयों की कुल क्षमता पिछले साल इस अवधि से बेहतर है। यह पिछले दस साल में इसी अवधि में औसत भंडारण क्षमता से भी बेहतर है।

नयी दिल्ली। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के आंकड़ों के अनुसार भारत में अगस्त के महीने में पिछले 44 साल में सबसे ज्यादा बारिश हुई है जहां देश के अनेक हिस्सों में बाढ़ की स्थिति है। आईएमडी के अनुसार अगस्त महीने में 28 तारीख तक 25 प्रतिशत अधिक वर्षा दर्ज की गयी है। इससे पहले 1983 में अगस्त महीने में सामान्य से 23.8 प्रतिशत अधिक वर्षा हुई थी। देश में अब तक कुल मिलाकर सामान्य से नौ प्रतिशत अधिक बारिश हुई है। बिहार, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, गुजरात और गोवा में अधिक बारिश दर्ज की गयी है, वहीं सिक्किम में अत्यधिक वर्षा हुई है। कई राज्यों में नदियों में उफान के साथ बाढ़ के हालात हैं। 

इसे भी पढ़ें: भारी बारिश के बाद दिल्ली में यमुना का जलस्तर चेतावनी निशान के पास पहुंचा 

केंद्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी) के अनुसार देश में 27 अगस्त तक जलाशयों की कुल क्षमता पिछले साल इस अवधि से बेहतर है। यह पिछले दस साल में इसी अवधि में औसत भंडारण क्षमता से भी बेहतर है। सीडब्ल्यूसी ने कहा कि गंगा, नर्मदा, तापी, माही, साबरमती की नदी घाटियों में, कच्छ, गोदावरी, कृष्णा, महानदी और कावेरी तथा दक्षिण भारत में पश्चिम की ओर बहती नदियों में पानी का स्तर सामान्य से अधिक है। केंद्रशासित प्रदेश जम्मू कश्मीर, मणिपुर, मिजोरम और नागालैंड में इस साल कम बारिश हुई है। देश में सामान्य मॉनसून का मौसम एक जून से 30 सितंबर तक होता है। जून में देशभर में 17 प्रतिशत अधिक वर्षा हुई थी, वहीं जुलाई में सामान्य से 10 फीसदी कम बारिश दर्ज की गयी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।