उर्दू लेखकों के लिए शुरू होगी पुरस्कार योजना, निशंक बोले- हर साल दिए जाएंगे अमीर खुसरो अवार्ड

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 27, 2020   15:10
उर्दू लेखकों के लिए शुरू होगी पुरस्कार योजना, निशंक बोले- हर साल दिए जाएंगे अमीर खुसरो अवार्ड

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि उर्दू परिषद के कार्यो की समीक्षा करते हुए मैंने अधिकारियों के समक्ष यह बात रखी की क्या हमें उर्दू में उत्कृष्ट लेखन करने वालों के लिये पुरस्कार की कोई योजना शुरू कर सकते हैं।

नयी दिल्ली। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बृहस्पतिवार को कहा कि आने वाले समय में उर्दू के क्षेत्र में उत्कृष्ठ लेखन कर पीढ़ियों को प्रेरित करने वाले कलमकारों के लिये पुरस्कार शुरू किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इसके तहत अमीर खुसरो लाइफटाइम एचीवमेंट पुरस्कार हर वर्ष दिया जायेगा। निशंक ने विश्व उर्दू वेबिनार में ‘इलेक्ट्रानिक एवं सोशल मीडिया के युग में उर्दू लेखकों की जिम्मेदारी’ विषय पर अपने संबोधन में यह घोषणा की। केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा, ‘‘ उर्दू परिषद के कार्यो की समीक्षा करते हुए मैंने अधिकारियों के समक्ष यह बात रखी की क्या हमें उर्दू में उत्कृष्ट लेखन करने वालों के लिये पुरस्कार की कोई योजना शुरू कर सकते हैं। विचार विमर्श के बाद हमने तय किया है कि आने वाले समय में हम हर वर्ष पुरस्कार प्रदान करेंगे। यह पुरस्कार उन कलमकारों के लिये होगा जो अच्छा लिख रहे हैं, अच्छी सोच के साथ आगे बढ़ रहे है और जिनकी लेखनी से पीढ़ियों को प्रेरणा मिलती है। ’’ 

इसे भी पढ़ें: शिक्षा मंत्री ने राष्ट्रीय बाल भवन से बच्चों के लिये राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार योजना बनाने को कहा 

उन्होंने कहा कि अमीर खुसरो लाइफटाइम एचीवमेंट पुरस्कार हर वर्ष दिया जायेगा। इसके अलावा मिर्जा गालिब, आगा हश्र कश्मीरी, रामबाबू सक्सेना, प्रेमचंद के नाम पर पुरस्कार प्रदान किया जायेगा। निशंक ने कहा कि श्रेष्ठ पुस्तकों का उर्दू में अनुवाद किया जायेगा और अगले वर्ष उर्दू का राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षो में उर्दू परिषद के बजट में दो गुणा से अधिक वृद्धि की गई है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आज सोशल मीडिया की ताकत बढ़ गई है, ऐसे में जो सच है और अच्छा है, उसे पूरी ताकत से सामने रखने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इस स्थिति में कलमकारों का दायित्व है कि वे पूरी ताकत और तन्मयता के साथ सुविचारों को नयी पीढ़ी तक पहुंचाएं। निशंक ने कहा कि अगर सोशल मीडिया पर कलमकार एवं अच्छी सोच वाले लोग कोई स्थान (गैप) छोड़ देंगे तो यह उन लोगों के पास चला जायेगा जो पीढ़ी को बर्बाद कर सकते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।