आजम खान के बिगड़ी तबीयत, अस्पताल में कराया गया भर्ती, हाल-चाल लेने जा सकते हैं अखिलेश

Azam Khan
ANI
अंकित सिंह । Aug 04, 2022 6:44PM
फिलहाल उनकी तबीयत स्थिर बताई जा रही है। खबर यह भी है कि आजम खान को निमोनिया की भी शिकायत थी। इन सबके बीच सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि अखिलेश यादव अस्पताल जाकर आजम खान का हाल-चाल लेंगे।

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और रामपुर से विधायक आजम खान की तबियत बिगड़ गई है। उन्हें आज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। खबरों के मुताबिक आजम खान को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। जिसके बाद उन्हें लखनऊ के मेदांता अस्पताल ले जाया गया। फिलहाल आजम खान को आईसीयू में भर्ती किया गया है और वहां उनका इलाज चल रहा है। उन्हें मेदांता अस्पताल में क्रिटिकल केयर टीम की निगरानी में रखा गया है। फिलहाल उनकी तबीयत स्थिर बताई जा रही है। खबर यह भी है कि आजम खान को निमोनिया की भी शिकायत थी। इन सबके बीच सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि अखिलेश यादव अस्पताल जाकर आजम खान का हाल-चाल लेंगे।

इसे भी पढ़ें: क्या यूपी की राजनीति में अखिलेश यादव की पकड़ हो रही कमजोर? रणनीति पर लगातार उठ रहे सवाल

आपको बता दें कि इससे पहले भी आजम खान की तबीयत खराब हो चुकी है। लखनऊ मेदांता की क्रिटिकल केयर टीम के प्रमुख डॉ दिलीप दुबे और उनकी टीम समाजवादी पार्टी के नेता का बेहतर इलाज करने के लिए लगातार प्रयत्नशील है। हालांकि बताया जा रहा है कि अखिलेश यादव आजम खान से मिलने जा सकते हैं। इसके जरिए अखिलेश यादव आजम खान की नाराजगी को भी दूर करने की कोशिश करेंगे। दूसरी और आजम खान कई मामलों को लेकर लगातार मुरादाबाद कोर्ट में पेश होते रहे हैं। हाल के दिनों में उन्होंने कई अहम मुद्दों पर अपने वक्तव्य भी दिए थे।

इसे भी पढ़ें: क्या अखिलेश को झटका देने की तैयारी में हैं दूसरे चाचा ? योगी आदित्यनाथ से मिले रामगोपाल यादव

लुलु माल के मालिक का आरएसएस से सीध संबंध: आजम खान

इससे पहले आजम खान ने आरोप लगाया कि लुलु मॉल के मालिक का राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसए) से सीधा संबंध है और उसके निर्देश पर मॉल में अनधिकृत रूप से नमाज अदा की गई। सपा नेता ने कहा कि लुलु मॉल का मालिक आरएसएस के लिए धन जुटाता है और वह राज्य में सांप्रदायिक हिंसा पैदा करना चाहता है। इस महीने की शुरुआत में लखनऊ में लुलु मॉल के उद्घाटन के बाद कुछ लोगों ने वहां अनधिकृत रूप से नमाज अदा की थी, जिससे विवाद खड़ा हो गया था। इसके विरोध में कुछ हिंदू संगठन हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहते थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा घटना पर कड़ा संज्ञान लेने के बाद, पुलिस ने कार्रवाई की और मामले में कई लोगों को गिरफ्तार किया गया था। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़