ओवैसी के खिलाफ चुनावी मैदान में ताल ठोक सकते हैं अजहरूद्दीन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 28, 2019   15:52
ओवैसी के खिलाफ चुनावी मैदान में ताल ठोक सकते हैं अजहरूद्दीन

क्रिकेटर से नेता बने 56 वर्षीय अजहरूद्दीन को राज्य में सात दिसंबर 2018 को हुए विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश कांग्रेस का कार्यकारी प्रमुख नियुक्त किया गया था। वह इसी शहर के निवासी भी है।

हैदराबाद। यदि तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस की योजना के अनुरूप चीजें आगे बढ़ती हैं तो हैदराबाद लोकसभा सीट पर एआईएमआईएम प्रमुख असदु्द्दीन ओवैसी के खिलाफ पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद अजहरूद्दीन चुनाव मैदान में उतर सकते हैं। पार्टी सूत्रों ने बताया कि भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान इस सीट के लिए प्रदेश कांग्रेस की पहली पसंद हैं। दरअसल, प्रदेश कांग्रेस ने तेलंगाना में सभी 17 लोकसभा सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों का चयन कर लिया है।  क्रिकेटर से नेता बने 56 वर्षीय अजहरूद्दीन को राज्य में सात दिसंबर 2018 को हुए विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश कांग्रेस का कार्यकारी प्रमुख नियुक्त किया गया था। वह इसी शहर के निवासी भी है। 

शुरूआती खबरों में कहा गया था कि वह मई में होने वाले लोकसभा चुनाव में सिकंदराबाद से चुनाव लड़ना चाहते हैं । यह सीट अभी भाजपा नेता बंडारू दत्तात्रेय के पास है। लेकिन अब यह संभावना नजर नहीं आती कि उन्हें(अजहरूद्दीन) को वहां से लड़ने की मंजूरी मिलेगी।  बहरहाल, अभी यह स्पष्ट नहीं है कि क्या अजहरूद्दीन हैदराबाद सीट से लड़ना चाहते हैं या नहीं, जो एआईएमआईएम का गढ़ है और उसका प्रतिनिधित्व तीन बार से ओवैसी कर रहे हैं।  यह पूछे जाने पर कि क्या अजहरूद्दीन अब भी इस दौड़ में हैं, पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘‘यदि पार्टी आलाकमान उनसे हैदराबाद से लड़ने को कहती है तो वह ऐसा करेंगे।’’

इसे भी पढ़ें: मोदी नहीं होंगे RSS की तरफ से PM पद के उम्मीदवार, गडकरी के नाम पर हो रही है चर्चा

वहीं, सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) पहले ही यह स्पष्ट कर चुकी है कि वह हैदराबाद सीट पर ओवैसी का समर्थन करेगी। गौरतलब है कि 2009 के लोकसभा चुनाव में उप्र के मुरादाबाद सीट से अजहरूद्दीन जीते थे लेकिन 2014 में वह राजस्थान के टोंक माधोपुर सीट से हार गए थे। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।