योगी सरकार के मंत्री के बिगडे़ बोल, कहा- मदरसा आतंकियों का ठिकाना

योगी सरकार के मंत्री के बिगडे़ बोल, कहा- मदरसा आतंकियों का ठिकाना

मदरसे से बाहर आने वाला व्यक्ति आतंकवादी बन जाता है, उनकी सोच आतंक की होती है। उन्होंने कहा कि भगवान मुझे मौका दे तो वह पूरे देश के मदरसों को बंद करा देंगे।

नई दिल्ली उत्तर प्रदेश में जैसै-जैसे  विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे है, वैसै-वैसै नेताओं के विवादित बयान भी आने भी शुरू हो गए हैं। इस बार राज्य में योगी आदित्यनाथ सरकार में राज्यमंत्री रघुराज  सिंह ने विवादित बयान दिया है और कहा है कि मदरसे आतंकियों के पनाहगाह हैं, जहां आतंकियों को तालीम दी जाती है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा को मिला अनुप्रिया का साथ तो अखिलेश के साथ आईं मां कृष्णा, समझिए किस पर कौन पड़ सकता है भारी ?

मदरसे से बाहर आने वाला व्यक्ति आतंकवादी बन जाता है, उनकी सोच आतंक की होती है। उन्होंने कहा कि भगवान मुझे मौका दे तो वह पूरे देश के मदरसों को बंद करा देंगे। रघुराज सिंह ने आगें कहा कि मदरसों से आतंकी निकलते हैं और पीएम मोदी को देश में चल रहे मदरसों को बंद कर देना चाहिए। राज्यमंत्री रघुराज सिंह ने कहा कि आतंकवाद के चेहरे को रौंदना है और सांप को खत्म करना है तो जैसे सांप के फन को कूचला जाता है वैसे ही हम आतंकवाद को कुचल दें।

इसे भी पढ़ें: जेवर एयरपोर्ट: किसानों के मुआवजे को लेकर भाजपा पर बरसीं प्रियंका, अखिलेश ने भी उठाए सवाल

उन्होंने  एएमयू के छात्र रहे आतंकी मन्नान वानी का जिक्र करते हुए  कहा कि वह यहां से पढ़ाई करने वाला आतंकी था और मदरसे से बाहर आकर वह यहां पढ़ाई करने को पहुंचा था। मदरसे से जितने भी लोग बाहर आते हैं वह आतंकी होते हैं, यही नहीं मदरसे में पढ़ने वाले सभी लोग आईएसआई के एजेंट हैं। कभी यूपी में 250 मदरसे थे और आज 22000 हजार मदरसे स्थापित हो चुके हैं। यूपी में विधानसभा चुनाव नजदीक है पर उससे  पहले एक एक करके नेताओं के विवादित बयान सामने आ रहे हैं। राज्य में एक ओर  चचाजान, जिन्ना और अब्बूजान को लेकर विवाद अभी थमा नहीं और  वहीं अब योगी सरकार के मंत्री ने मदरसों को लेकर बिगड़े बोल बोले हैं। हालांकि मदरसों को लेकर कई एजेंसियों की रिपोर्ट भी आ चुकी है। और शिया नेता वसीम रिजवी भी मदरसों को आतंक का अड्डा बता चुके हैं और  केन्द्र सरकार से  उन्हें बंद करने की अपील कर चुके हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।