तीस अप्रैल को तड़के साढ़े चार बजे खोले जाएंगे बद्रीनाथ धाम के पट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 29, 2020   14:56
तीस अप्रैल को तड़के साढ़े चार बजे खोले जाएंगे बद्रीनाथ धाम के पट

उत्तराखंड के उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित प्रसिद्ध धाम बद्रीनाथ के कपाट छह माह के शीतकालीन अवकाश के बाद इस वर्ष 30 अप्रैल को श्रद्धालुओं के लिए फिर खोल दिये जायेंगे। उत्तरकाशी जिले में स्थित गंगोत्री और यमुनोत्री मंदिरों के कपाट जहां हर साल अक्षय तृतीया पर खोले जाते हैं।

देहरादून। उत्तराखंड के उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित प्रसिद्ध धाम बद्रीनाथ के कपाट छह माह के शीतकालीन अवकाश के बाद इस वर्ष 30 अप्रैल को श्रद्धालुओं के लिए फिर खोल दिये जायेंगे। श्री बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल ने बताया कि मंदिर के कपाट विधिवत पूजा अर्चना के बाद 30 अप्रैल को तड़के साढ़े चार बजे श्रद्धालुओं के लिए खोल दिये जायेंगे। उन्होंने बताया कि चमोली जिले में स्थित भगवान विष्णु के इस धाम के कपाट खोलने की तिथि और समय का मुहूर्त बसंत पंचमी पर बुधवार को टिहरी राजपरिवार के पुरोहित आचार्य कृष्ण प्रसाद उनियाल और संपूर्णानंद जोशी ने निकाला। 

इसे भी पढ़ें: हिमालय की गोद में बसा है शंकर का धाम केदारनाथ

गढ़वाल हिमालय के चार धामों के नाम से प्रसिद्ध बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री मंदिरों के सर्दियों में भारी बर्फवारी और भीषण ठंड की चपेट में रहने के कारण उनके कपाट हर साल अक्टूबर-नवंबर में बंद कर दिये जाते हैं जो अगले साल दोबारा अप्रैल-मई में श्रद्धालुओं के लिए खोल दिये जाते हैं। उत्तरकाशी जिले में स्थित गंगोत्री और यमुनोत्री मंदिरों के कपाट जहां हर साल अक्षय तृतीया पर खोले जाते हैं वहीं रूद्रप्रयाग जिले में स्थित केदारनाथ मंदिर के द्वार खोले जाने का मुहूर्त महाशिवरात्रि के त्योहार पर निकाला जाता है।

इसे भी देखें: खुल गये भगवान बदरीनाथ धाम के कपाट, घर बैठे कीजिये दर्शन





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।