बाजरा को हरियाणा की भावान्तर भरपाई योजना में शामिल किया जायेगा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 29, 2021   07:17
बाजरा को हरियाणा की भावान्तर भरपाई योजना में शामिल किया जायेगा
प्रतिरूप फोटो

इससे पहले राज्य में बागवानी फसलों के लिये भी ‘भावान्तर भरपाई योजना’ को भी लागू किया गया था।योजना में 21 बागवानी फसलों को शामिल किया गया। खट्टर ने कहा कि केन्द्र सरकार ने बाजरा के लिये न्यूनतम समर्थन मूल्य 2,250 रुपये प्रति क्विंटल तय किया है।

हरियाणा सरकार इस खरीफ सत्र से बाजरा को राज्य की भावान्तर भरपाई योजना में शामिल करेगी।मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि इस योजना को लागू करने वाला हरियाणा पहला राज्य है।उन्होंने कहा कि यह फैसला राज्य के किसानों के हित में लिया गया है। एक सरकारी बयान में यह कहा गया है।

इसे भी पढ़ें: हरियाणा : गृह मंत्री अनिल विज के कार्यालय में काम करने वाले सहायक ने लीक की महत्वपूर्ण जानकारी

इससे पहले राज्य में बागवानी फसलों के लिये भी ‘भावान्तर भरपाई योजना’ को भी लागू किया गया था।योजना में 21 बागवानी फसलों को शामिल किया गया। खट्टर ने कहा कि केन्द्र सरकार ने बाजरा के लिये न्यूनतम समर्थन मूल्य 2,250 रुपये प्रति क्विंटल तय किया है।

उन्होंने कहा, ‘‘पड़ौसी राज्यों राजस्थान और पंजाब ने बाजरा की खरीद के लिये कोई योजना नहीं बनाई है।ऐसे में इन राज्यों से किसान बाजरा बेचने के लिये हरियाणा में ला सकते हैं। इसलिये राज्य सरकार ने केवल उन्ही किसानों को योजना का लाभ देने का फैसला किया है जो कि राज्य की ‘मेरी फसल- मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर पंजीकरण करायेंगे।

इसे भी पढ़ें: हरियाणा देश में गन्ने के सबसे अधिक दाम देने वाला राज्य: खट्टर

खरीफ सत्र 2021- 22 के दौरान राज्य के 2.71 लाख किसानों ने मेरी फसल- मेरा ब्यौरा पोर्टल पर बाजरा के लिये पंजीकरण कराया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।