बैंक ने कर्ज न चुकाने पर धनंजय मुंडे का फ्लैट कब्जे में लिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 29, 2019   09:39
बैंक ने कर्ज न चुकाने पर धनंजय मुंडे का फ्लैट कब्जे में लिया

शिवाजीराव भोसले कॉपरेटिव बैंक लिमिटेड ने चुनाव परिणाम घोषित होने के अगले दिन 25 अक्टूबर को एक अखबार में इस फ्लैट के संबंध में इश्तिहार/नोटिस प्रकाशित किया था।

पुणे। महाराष्ट्र में पुणे के एक बैंक ने 70 लाख रुपये के ऋण की कथित रूप से अदायगी नहीं करने को लेकर राकांपा के नवनिर्वाचित विधायक धनंजय मुंडे के फ्लैट को ‘‘सांकेतिक रूप से कब्जे में’’ ले लिया है। राकांपा नेता ने अपनी चचेरी बहन भाजपा की पंकजा मुंडे को हाल के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में बीड़ जिले की परली सीट से हराया था।

इसे भी पढ़ें: शरद पवार बोले- अच्छे नेता तैयार करने पर ध्यान केंद्रित करूंगा

शिवाजीराव भोसले कॉपरेटिव बैंक लिमिटेड ने चुनाव परिणाम घोषित होने के अगले दिन 25 अक्टूबर को एक अखबार में इस फ्लैट के संबंध में इश्तिहार/नोटिस प्रकाशित किया था। इस बैंक का मुख्यालय पुणे में है। नोटिस में कहा गया था, ‘‘चूंकि प्रतिवादी ऋण की राशि चुकाने में विफल रहे हैं तो बैंक ने इस संपत्ति को सांकेतिक रूप से कब्जे में ले लिया है।’’ सांकेतिक कब्जे के तहत दरअसल संपत्ति संबंधित मालिक के कब्जे में ही रहती है। संबंधित फ्लैट यहां शिवाजीनगर की मॉडल कॉलोनी की ‘युगाई ग्रीन्स’ परियोजना में है। बैंक के एक अधिकारी ने बताया कि यदि उधारकर्ता बकाया राशि का भुगतान करने में विफल रहता है तो बैंक उस संपत्ति को वास्तविक रूप से कब्जा में लेने के लिए जिलाधिकारी को एक प्रस्ताव भेजेगा।

इसे भी पढ़ें: हम शिवसेना के साथ ‘आराम से’ अगली सरकार बनाएंगे: भाजपा

इस बैंक के कामकाज में गंभीर अनियमितताओं को लेकर इसी माह के प्रारंभ में रिजर्व बैंक ने इसके बोर्ड को भंग कर दिया था और उसने इस बैंक को चलाने के लिए एक प्रशासक नियुक्त किया था। इस बैंक के प्रवर्तक राकांपा के विधान परिषद सदस्य अनिल शिवाजीराव भोसले रहे हैं। मुंडे ने कहा कि उन्होंने बैंक से कहा था कि चुनाव के बाद वह मामले का निपटारा कर देंगे और अब वह अपने अगले कदम पर मंगलवार को निर्णय लेंगे।  





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।