चीनी ऐपों पर प्रतिबंध लगाना पर्याप्त नहीं, ममता बनर्जी ने कहा- चीन को करारा जवाब देने की जरूरत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 30, 2020   20:46
चीनी ऐपों पर प्रतिबंध लगाना पर्याप्त नहीं, ममता बनर्जी ने कहा- चीन को करारा जवाब देने की जरूरत

भारत ने देश की संप्रभुता, अखंडता और सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुये सोमवार को चीन से जुड़े 59 ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया, जिसमें बेहद लोकप्रिय टिकटॉक और यूसी ब्राउजर शामिल हैं।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि ऐप पर प्रतिबंध लगाना पर्याप्त नहीं होगा, बल्कि चीन को मुँहतोड़ जवाब देने की आवश्यकता है। तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने हालांकि कहा कि इस मुद्दे पर निर्णय पूरी तरह से केंद्र सरकार को लेना है। उन्होंने यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘यह विषय विदेश मामलों के विभाग का है, हम केंद्र सरकार के रुख का समर्थन करेंगे.... लेकिन, हमें एक ओर जहां बहुत आक्रामक होना होगा और वहीं दूसरी तरफ, राजनयिक चैनल का भी उपयोग करना होगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी ने मेट्रो को जल्द से जल्द शुरू करने का किया आग्रह, कहा- सीमित तरीके से हो संचालन 

उन्होंने कहा कि केवल कुछ ऐप पर प्रतिबंध लगाना उचित जवाब नहीं होगा, हमें चीन को मुँहतोड़ जवाब देना चाहिए। भारत ने देश की संप्रभुता, अखंडता और सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुये सोमवार को चीन से जुड़े 59 ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया, जिसमें बेहद लोकप्रिय टिकटॉक और यूसी ब्राउजर शामिल हैं। यह प्रतिबंध लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास गतिरोध और गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ झड़प में 20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने के बाद लगाया गया है। बनर्जी ने यह भी कहा कि उनकी सरकार अगले साल जून तक लाभार्थियों को मुफ्त राशन देगी। 

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन के बावजूद पश्चिम बंगाल में नहीं थमे बाल विवाह के मामले, मध्य मार्च से 500 मामले आए सामने 

उन्होंने कहा कि केंद्र की राशन नीति देश की 130 करोड़ आबादी में से प्रत्येक को राशन प्रदान करने की होनी चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ऐलान किया कि ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ का विस्तार नवम्बर महीने के आखिर तक कर दिया गया है। इससे 80 करोड़ लोगों को और पांच महीनों तक मुफ्त राशन मिलेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।