माओवादियों के गढ़ की छवि बदलना चाहता है बस्तर, आगंतुकों को लुभाने की कोशिश में जुटा

माओवादियों के गढ़ की छवि बदलना चाहता है बस्तर,  आगंतुकों को लुभाने की कोशिश में जुटा

छत्तीसगढ़ में बस्तर माओवादियों के गढ़ की अपनी छवि को बदलने की कोशिश में जुटा है। जिसके साथ वह आगंतुकों को लुभाने की कोशिश कर रहा है।

छत्तीसगढ़ में बस्तर माओवादियों के गढ़ की अपनी छवि को बदलने की कोशिश में जुटा है। जिसके साथ वह आगंतुकों को लुभाने की कोशिश कर रहा है। इसके साथ ही वह पर्यटन स्थल की स्वच्छता का प्रबंध करने के लिए स्वयं सहायता समूह का गठन कर रहा है, पर्यटकों को कैंपेन , ट्रैकिंग और होमस्टे से जोड़ रहा है। 

इसे भी पढ़ें: किसान परिवार से आने वाले भूपेश बघेल ने बनाई है खुद की पहचान तो सरगुजा रियासत के 118वें राजा हैं टीएस सिंह देव 

'आमचो बस्तर पर्यटन' मॉडल के तहत पर्यटकों का विवरण,पर्यटकों की सुरक्षा आदि से जुड़ी चिंताओं को दूर करने में लगा हुआ है ।अब तक इस मॉडल से लगभग 500 लोग जुड़ चुके हैं। इसके तहत जिला प्रशासन ने ग्राम पंचायतों के समन्वय से बस्तर के गांव में 16 होमस्टे बनाए हैं और अन्य 10 सितंबर के मध्य तक तैयार हो जाएंगे। सभी होमस्टे को पोर्टल पर सूचीबद्ध किया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: सिद्धू-सचिन और देव के तेवर ने छुड़ाए कांग्रेस के पसीने, कम नहीं हो रही पार्टी की परेशानी 

ग्राम पंचायत के लोगों ने बताया कि अब तक दिल्ली की एक महिला और कानपुर का एक जोड़ा अपने एक कमरे में एक एक रात के लिए रुका है, और हमने इन आगंतुकों से कुल 1400 रुपए कमाए की है। सामुदायिक पर्यटन मॉडल के तहत बेरोजगार युवाओं को भी आतिथ्य और पर्यटन में चुना और प्रशिक्षित किया जा रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।