पश्चिम बंगाल में आठवें चरण में 76% से ज्यादा हुई वोटिंग

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2021   08:18
पश्चिम बंगाल में आठवें चरण में 76% से ज्यादा हुई वोटिंग

पश्चिम बंगाल चुनाव में छिटपुट हिंसा और प्रत्याशी पर हमले के बीच 76 फीसदी से अधिक मतदान हुआ।पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) आरीज़ आफताब ने कोलकाता में बताया कि, मतदान आज शांतिपूर्ण रहा, लेकिन हिंसा की चंद घटनाएं रिपोर्ट हुईं।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के आठवें एवं आखिरी चरण के तहत बृहस्पतिवार को विभिन्न इलाकों से छिटपुट हिंसा की घटनाओें के बीच मतदान समाप्त हो गया। निर्वाचन आयोग केसूत्रों के मुताबिक, अंतिम चरण की 35 सीटों पर 76.07 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। विधानसभा के आठवें एवं अंतिम चरण में 35 सीटों के लिए 11,860 मतदान केंद्रों पर मतदान0 हुआ। इनमें से 11-11 सीटें मुर्शिदाबाद और बीरभूम जिले में जबकि छह सीटें मालदा और सात सीटें उत्तरी कोलकाता की हैं। पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) आरीज़ आफताब ने कोलकाता में बताया “ मतदान आज शांतिपूर्ण रहा, लेकिन हिंसा की चंद घटनाएं रिपोर्ट हुईं।” उन्होंने कहा कि बृहस्पतिवार को एहतियातन 835 लोगों को गिरफ्तार किया गया। आफताब ने बताया कि दिन में 78 बम, पांच अवैध हथियार बरामद किए गए तथा सीईओ के दफ्तर को 1179 शिकायतें मिलीं। आफताब ने बताया कि बीरभूम जिले में सबसे ज्यादा 81.87 प्रतिशत मतदान हुआ। इसके बाद मालदा में 80.06 फीसदी, मुर्शिदाबाद में 78.07 प्रतिशत और कोलकाता में 57.53 फीसदी वोट पड़े।

इसे भी पढ़ें: उद्धव ठाकरे ने केंद्र से कहा, कोविड-19 को राष्ट्रीय आपदा घोषित करें

पुलिस अधिकारी ने बताया कि मतदान से पहले मुर्शिदाबाद में एक कार की टक्कर से एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि दो अन्य घायल हो गए जिससे इलाके में तनाव का माहौल पैदा हो गया। माकपा ने आरोप लगाया है कि तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार जफिकुल इस्लाम ने माकपा कार्यकर्ताओं को कार से कुचल दिया जिससे उसके कार्यकर्ता कादर मंडल (42) की मौत हो गयी और आसिम अल मामून (43) और लाल चंद मंडल (42) घटना में घायल हो गये। इस्लाम डोमकल से तृणमूल के उम्मीदवार हैं। उन्होंने इन आरोपों को बेतुका बताया है और दावा किया कि घटना के वक्त वह घटनास्थल से काफी दूर थे। सीईओ आफताब ने घटना को लेकर जिला अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी है। कोलकाता शहर के बेलियाघाट इलाके में दो गुटों में झड़प हो गई और उन्हें तितर-बितर करने के लिए पुलिस को हल्का लाठीचार्ज करना पड़ा। खुद को भाजपा कार्यकर्ता बताने वाले दो लोगों ने आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने उनके साथ झड़प की। बोलपुर सीट के इलमबाजार में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा का कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। भाजपा प्रत्याशी अनिर्बान गांगुली जब वहां पहुंचे तो उनकी कार को क्षतिग्रस्त कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें: सभी नागरिकों को कोरोना का मुफ्त टीका लगना चाहिए: राहुल गांधी

गांगुली ने आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने उनकी कार पर हमला किया है लेकिन तृणमूल कांग्रेस के प्रत्याशी और राज्य सरकार में मंत्री चंद्रनाथ सिन्हा ने गांगुली के आरोपों का खंडन करते हुए दावा किया कि भाजपा उम्मीदवार मतदाताओं को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे थे तो ग्रामीणों ने खदेड़ दिया। जोड़ासांको विधानसभा क्षेत्र भाजपा प्रत्याणी मीणा देवी पुरोहित ने आरोप लगाया कि जब वह विभिन्न मतदान केंद्रों का दौरा कर रही थीं तभी उनके वाहन पर बम फेंके गए। बम फेंकने के स्थान पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को भेजा गया है। बीरभूम के नानूर विधनसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी तारकेश्वर साहा को उस समय चोट आने की खबर है जब उनके वाहन में तोड़फोड़ की गई। साहा ने तृणमूल कार्यकर्ताओं को हमले के लिए जिम्मेदार ठहराया है लेकिन राज्य में सत्तारूढ़ पार्टी के स्थानीय नेताओं ने इसे ‘आधारहीन’ करार दिया है। मुर्शीदाबाद जिले के डोमकल में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं में संघर्ष हो गया। पुलिस ने बाद में एक खेत से बड़ी मात्रा में देसी बम बरामद किए। कोलकाता के मणिकतला विधानसभा के भाजपा प्रत्याशी कल्याण चौबे जब मतदान केंद्र पर गए तो कुछ लोगों ने उनका घेराव किया। चौबे ने आरोप लगाया,‘‘तृणमूल कांग्रेस समर्थित असामाजिक तत्वों ने ऐसी स्थिति उत्पन्न करने की कोशिश की ताकि वे मतदान में धांधली कर सके।’’ तृणमूल कांग्रेस प्रत्याशी साधन पांडे ने आरोप लगाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा कई मतदान केंद्रों पर उनके चुनाव एजेंटों की पिटाई की गई। कोलकाता के पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी पत्रकारों को बताया कि मध्य कोलकाता के सेंट्रल एवेन्यू पर महाजाती सदन के बाहर से देसी बम फट गया।

इसे भी पढ़ें: कोरोना के 1 दिन में 3.79 लाख मामले, एक्टिव केस 31 लाख के करीब

सीईओ दफ्तर के एक अधिकारी ने बताया कि घटनास्थल पर पटाखे फोड़ने पर रोक है। सुबह से ही अधिकतर मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की लंबी-लंबी कतारें देखी गई जिससे कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर चिंता बढ़ गई जबकि निर्वाचन आयोग ने भरोसा दिया था कि कोविड-19 से बचने के लिए सभी एहतियाती उपायों का अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा। पश्चिम बंगाल में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस से एक दिन में सर्वाधिक 89 लोगों की मौत हो गई और 17,403 नएलोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। विधानसभा चुनाव के आखिरी चरण में 84.77 लाख मतदाता 283 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला कर रहे हैं। निर्वाचन आयोग ने अंतिम चरण में निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों की 641 कंपनियां तैनात की है। निर्वाचन आयोग ने बीरभूम जिले के तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष अनुब्रत मंडल को शुक्रवार सुबह सात बजे तक कड़ी निगरानी में रखा है। यह कदम मुख्य निर्वाचन अधिकारी के समक्ष मंडल की आई कई शिकायतों के बाद उठाया गया है। उल्लेखनीय है कि इसके साथ ही 294 सदस्यीय विधानसभा चुनाव का समापन हो गया जाएगा जो 27 मार्च को शुरू हुआ था। मतों की गिनती रविवार को होगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।