जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले से आगे बढ़ी ‘भारत जोड़ो यात्रा’, Sanjay Raut भी हुए शामिल

Sanjay Raut in BJY
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने सर्दी के मौसम और बारिश के बीच शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में हटली मोड़ से पार्टी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ फिर शुरू की, जिसमें शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) के संजय राउत और परमवीर चक्र से सम्मानित कैप्टन (अवकाश प्राप्त) बाना सिंह सहित कई बड़े नेता शामिल हुए।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने सर्दी के मौसम और बारिश के बीच शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में हटली मोड़ से पार्टी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ फिर शुरू की, जिसमें शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) के संजय राउत और परमवीर चक्र से सम्मानित कैप्टन (अवकाश प्राप्त) बाना सिंह सहित कई बड़े नेता शामिल हुए। यात्रा का यह आखिरी चरण है।

इस दौरान, राहुल सफेद टी-शर्ट पर काले रंग की बरसाती (रेनकोट) पहने नजर आए, लेकिन मौसम में थोड़ा सुधार होने के बाद जम्मू-पठानकोट राजमार्ग पर हटली मोड़ से चडवाल तक 21 किलोमीटर लंबे रास्ते पर दो घंटे से अधिक की यात्रा के बाद इसे उतार दिया।इस 21 किलोमीटर लंबे यात्रा मार्ग पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। तमिलनाडु के कन्याकुमारी से सात सितंबर को शुरू हुई ‘भारत जोड़ो यात्रा’ 30 जनवरी को श्रीनगर में संपन्न होगी, जहां राहुल जम्मू-कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी में राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे।

पहले दिन की यात्रा समाप्त होने के बाद कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने संवाददाताओं से कहा कि जम्मू कश्मीर में यात्रा के पहले दिन यह सुबह सात बजे शुरू होने वाली थी, लेकिन खराब मौसम के कारण सुबह पौने आठ बजे के बाद ही शुरू हो सकी। रमेश ने कहा, ‘‘आज यात्रा का 126वां दिन है और कई राज्यों से गुजरते हुए यह अंतत: जम्मू-कश्मीर पहुंची है। यहां हम यात्रा के अंतिम 10 दिन गुजारेंगे। हमने राहुल गांधी के नेतृत्व में 21 किलोमीटर की पदयात्रा की।’’

रमेश के साथ इस दौरान मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह समेत पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता भी मौजूद थे। उन्होंने बताया कि शनिवार के विराम के बाद यात्रा रविवार को कठुआ के हीरानगर से शुरू होगी और 23 जनवरी को जम्मू पहुंचेगी, जबकि घाटी में दाखिल होने से पहले 26 जनवरी को यात्रा लंबित रहेगी। कांग्रेस की जम्मू-कश्मीर इकाई के अध्यक्ष विकार रसूल वानी और उनके पूर्ववर्तीजी ए मीर पांच घंटे लंबे मार्च के दौरान राहुल गांधी के साथ रहे।

राउत अपनी पार्टी की ओर से मार्च में शामिल हुए। शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) के संजय राउत ने कहा, ‘‘मैं अपनी पार्टी की ओर से यात्रा में शामिल होने आया हूं। देश में माहौल तेजी से बदल रहा है और मैं राहुल को वास्तविक मुद्दों पर आवाज उठाने वाले नेता के रूप में देख रहा हूं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जिस तरह से लोग इस यात्रा से जुड़ रहे हैं, यह दिल को छू लेने वाला है। वह एक नेता हैं और इसलिए वह सड़कों पर हैं। जनता फैसला करेगी (उनका नेता कौन होगा)।’’

सर्वोच्च वीरता पुरस्कार परमवीर चक्र से सम्मानित कैप्टन (अवकाश प्राप्त) बाना सिंह के नेतृत्व में सेवानिवृत्त सैनिकों का दल भी यात्रा में शामिल हुआ। बाना सिंह को राजीव गांधी के प्रधानमंत्री कार्यकाल में लद्दाख के सियाचिन में 1988 में हुए ऑपरेशन के लिएइस पदक से सम्मानित किया गया था। उन्होंने करीब 40 मिनट तक राहुल गांधी के साथ पद यात्रा की।

राहुल गांधी ने उस परिवार के लोगों की ओर हाथ हिलाकर व मुस्कुराकर अभिवादन किया, जो छत पर चढ़ा था और वहां ‘‘ भाजपा और पप्पू’’लिखी तख्ती दिखाई गई, जबकि कुछ उत्साही कांग्रेस समर्थकों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी की। कई कांग्रेस कार्यकर्ता और समर्थक तिरंगा लिए हुए थे और यात्रा शुरू होने से पहले ही जमा हो गए थे, जबकि हजारों की संख्या में पुरुष महिलाएं और बच्चे सड़क के दोनों किनारे ओर खड़े थे और उनके हाथ में राहुल गांधी का स्वागत करने के लिए तख्तियां, फूल और मालाएं थीं।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘‘ हम नफरत और हिंसा की विचारधारा के खिलाफ पद यात्रा कर रहे हैं...उस विचारधारा के खिलाफ चल रहे हैं, जो गरीबों के खिलाफ है और युवाओं को बेरोजगारी की ओर धकेल रही है। यह हमारा उद्देश्य है, जिसके खिलाफ हम लड़ रहे हैं और जो इसमें जुड़ना चाहते हैं उनका स्वागत है।’’ बारिश के बावजूद लोगों के जमा होने पर उन्हें धन्यवाद ज्ञापित करते हुए वानी ने कहा कि कश्मीरी पंडितों सहित कुल 90 प्रतिनिधियों के जम्मू मार्च के दौरान गांधी से मिलने की उम्मीद है।

उन्होंने कहा, ‘‘ लोग समस्या का सामना कर रहे हैं, क्योंकि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने गत नौ साल में जन कल्याण के लिए कुछ नहीं किया है। कांग्रेस ने रोशनी कानून के तहत गरीबों को जमीन पर मालिकाना हक दिया, लेकिन भाजपा उसे रद्द कर जमीन को वापस ले रही है। लोग भाजपा शासन में दमन का सामना कर रहे हैं।’’ वानी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोगों को राहुल गांधी से बहुत उम्मीदें है और कांग्रेस उन्हें निराश नहीं करेगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़