भीम आर्मी प्रमुख ने दलितों के खिलाफ अत्याचार पर गुजरात सरकार को चेताया

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 17 2019 4:51PM
भीम आर्मी प्रमुख ने दलितों के खिलाफ अत्याचार पर गुजरात सरकार को चेताया
Image Source: Google

सा लगता है कि गुजरात में संविधान के प्रावधान लागू नहीं होते। नागरिकों को भेदभाव से बचाने वाले संविधान के अनुच्छेद 15 को गुजरात सरकार ने हटा दिया है।’’

अहमदाबाद। समाज के कुछ धड़े द्वारा दलितों की बारात रोके जाने की कुछ घटनाओं को लेकर गुजरात में भाजपा सरकार की आलोचना करते हुए भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद ने शुक्रवार को चेतावनी दी कि इस तरह के अत्याचार बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे। यहां संवाददाताओं से बात करते हुए आजाद ने कहा कि गुजरात में ‘जंगल राज’ कायम है क्योंकि अनुसूचित जाति समुदाय के लोगों को संविधान प्रदत्त मूलभूत अधिकारों से वंचित किया गया है।
भाजपा को जिताए

आजाद उर्फ रावण ने कहा, ‘‘मैं गुजरात इसलिए आया हूं क्योंकि हाल में दलितों पर अत्याचार की कई घटनाएं हुई है। ऐसा लगता है कि गुजरात में संविधान के प्रावधान लागू नहीं होते। नागरिकों को भेदभाव से बचाने वाले संविधान के अनुच्छेद 15 को गुजरात सरकार ने हटा दिया है।’’ उन्होंने कहा कि केवल बारात निकालने से ही नहीं रोका जा रहा बल्कि गुजरात में दलितों को मूंछ रखने और अपने नाम में सिंह लगाने के कारण भी जुल्म का सामना करना पड़ता है।
उन्होंने कहा, ‘‘उन्हें मंदिरों में जाने की इजाजत नहीं है। यह जंगल राज है। मैं सरकार को बताना चाहता हूं कि दलित यह अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे। हम चाहते हैं कि सरकार जग जाए।’’ भीम आर्मी के प्रमुख ने कहा कि वह गुजरात के हर उस गांव में जाएंगे जहां दलित दूल्हों की बारात को रोका गया। 


 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप