भीम आर्मी प्रमुख वाराणसी से लड़ेंगे चुनाव, कहा- मोदी को हराकर गुजरात भेजना है

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 31, 2019   10:23
भीम आर्मी प्रमुख वाराणसी से लड़ेंगे चुनाव, कहा- मोदी को हराकर गुजरात भेजना है

वाराणसी में रोड शो की शुरुआत में जैसे ही चन्द्रशेखर का काफिला मिंट हाउस के पास पहुंचा, उनका विरोध होने लगा। यूपी कॉलेज के छात्रसंघ अध्यक्ष मिलिंद सिंह और छात्र गौरव सिंह ने चंद्रशेखर को काले झंडे दिखाए।

वाराणसी। भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे और मोदी के खिलाफ चुनाव लड़के का ऐलान किया। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा एकमात्र लक्ष्य मोदीजी को हराकर गुजरात भेजना है।’’ चंद्रशेखर आजाद ने वाराणसी में रोड शो भी किया। उनका रोड शो दोपहर साढ़े 12 बजे के बाद कचहरी के आंबेडकर चौराहे से शुरू हुआ। 

अपनी जीत की दावेदारी करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘मैं वाराणसी से चुनाव लड़ूंगा और जीत लूंगा, क्योंकि मई के महीने में मैं किसी हाल में कोई भी चीज हारता नहीं हूं।’ पत्रकारों से बातचीत में चंद्रशेखर ने कहा, ‘‘देश के 48 खरब रुपएअमीरों के पास हैं और वे गरीबों की खाल उतारने का काम कर रहे हैं। हमें इसका जवाब चाहिए।’ चंद्रशेखर ने कहा कि सत्ता में बैठी सरकार गरीबों को लूट रही है। उन्होंने यह दावा भी किया कि इस सरकार में 2 करोड़ युवाओं की नौकरियां छीन ली गईं।

इसे भी पढ़ें: बर्खास्त बीएसएफ जवान वाराणसी से मोदी के खिलाफ लड़ेगा चुनाव 

वाराणसी में रोड शो की शुरुआत में जैसे ही चन्द्रशेखर का काफिला मिंट हाउस के पास पहुंचा, उनका विरोध होने लगा। यूपी कॉलेज के छात्रसंघ अध्यक्ष मिलिंद सिंह और छात्र गौरव सिंह ने चंद्रशेखर को काले झंडे दिखाए। काफिले के साथ चल रही पुलिस ने दोनों छात्रों को तुरंत गिरफ्तार कर लिया। यूपी कॉलेज के छात्रसंघ अध्यक्ष मिलिंद सिंह ने कहा कि चंद्रशेखर का वह बयान ‘‘देश विरोधी’’ था, जिसमें उन्होंने कहा था कि यदि संविधान से छेड़छाड़ की गई तो भीमा-कोरे गांव जैसी हिंसा दोहराई जा सकती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।