भोपाल कलेक्टर ने जारी किया आदेश, नहीं बनेंगी पीओपी से मूर्तियां

Ganesh utsav
सुयश भट्ट । Aug 27, 2021 12:03PM
पूजा के पश्चात गणेश मूर्तियों का विसर्जन नदी और तालाबों में किया जाता है। गोबर मिट्टी की मूर्ति पानी में घुल जाती है लेकिन वहीं पीओपी की मूर्तियां जस की तस मौजूद रहती है।

भोपाल। राजधानी भोपाल में पीओपी से बनी मूर्तियों की खरीदी और बिक्री पर प्रतिबंध लग गया है। भोपाल कलेक्टर अविनाश लवनिया ने इसे लेकर आदेश जारी किया है। इसके साथ ही आदेश के उल्लंघन करने पर जिला प्रशासन द्वारा कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

इसे भी पढ़ें:प्रदेश में होने वाले उपचुनाव से पहले बीजेपी की बड़ी बैठक आज,राष्ट्रीय सह मंत्री समेत कई वरिष्ठ नेता रहेंगे मौजूद 

आपको बता दें कि पीओपी की मूर्तियों पर प्रतिबंध लगने के बाद गणेशोत्सव में अब गोबर-मिट्टी की मूर्तियां ही बनाई जा सकेंगी। वहीं 10 सितंबर से गणेश चतुर्थी की शुरुआत हो रही है। 10 दिनों तक पंडालों और घरों में गणेश जी की मूर्तियों को विराज कर उनकी पूजा आराधना की जाती है।

इसे भी पढ़ें:कांग्रेस प्रवक्ता नूरी खान की अगस्त क्रांति पदयात्रा हुई समाप्त, पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दी बधाई 

दरअसल पूजा के पश्चात गणेश मूर्तियों का विसर्जन नदी और तालाबों में किया जाता है। गोबर मिट्टी की मूर्ति पानी में घुल जाती है लेकिन वहीं पीओपी की मूर्तियां जस की तस मौजूद रहती है। इसी के चलते पीओपी की मूर्तियों से नदी तालाबों में होने वाले प्रदूषणों के मद्देनजर उन पर प्रतिबंध लगाया गया है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़