भोपाल नगर निगम करेगी कुत्तों की नसबंदी, बनेंगे 4 एबीसी सेंटर

भोपाल नगर निगम करेगी कुत्तों की नसबंदी, बनेंगे 4 एबीसी सेंटर

भोपाल में आवारा कुत्तों का आतंक दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। रोज अवारा कुत्तों को लेकर 30 से ज्यादा शिकायतें आती हैं। इन्हीं से निपटने के लिए भोपाल नगर निगम ने एक रोड मैप तैयार किया है। नगर निगम शहर के चार अलग-अलग इलाकों में एबीसी सेंटर खोलेगी जहां आवारा कुत्तों की नसबंदी की जाएगी।

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में करीब दो सप्ताह पहले एक दर्दनाक वीडियो सामने आया था। वीडियो में देखा गया कि एक बच्ची पर 4 आवारा कुत्ते हमला कर देते हैं। इस घटना सामने आने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एक्शन में आए। जिसके बाद सीएम ने नगर निगम कमिश्नर और कलेक्टर को बुलकार फटकार लगाई थी। जिज़के बाद अब नगर निगम ने कुत्तों की नसबंदी को लेकर एक प्लान तैयार किया है।

आपको बता दें कि भोपाल में आवारा कुत्तों का आतंक दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। रोज अवारा कुत्तों को लेकर 30 से ज्यादा शिकायतें आती हैं। इन्हीं से निपटने के लिए भोपाल नगर निगम ने एक रोड मैप तैयार किया है। नगर निगम शहर के चार अलग-अलग इलाकों में एबीसी सेंटर खोलेगी जहां आवारा कुत्तों की नसबंदी की जाएगी।

इसे भी पढ़ें:सुप्रीम कोर्ट ने पंचायत चुनाव को लेकर ओबीसी वर्ग को दी राहत, केंद्र और राज्य सरकार की याचिकाओं पर हुई सुनवाई 

जानकारी के अनुसार भोपाल के कोलार, भेल, बैरागढ़ और जहांगीराबाद में एबीसी सेंटर बनेंगे। 2 करोड़ की लागत से एनिमल बर्थ कंट्रोल सेंटर तैयार होंगे। नगर निगम ने इसको लेकर टेंडर जारी किया है। एबीसी सेंटर की जिम्मेदारी पूरी तरह ठेकेदार के पास होगी। नगर निगम सिर्फ आवारा कुत्ते एबीसी सेंटर तक लाएगा।

दरअसल कुत्तों की नसबंदी करने की जिम्मेदारी पिछले 5 साल से नवोदय को मिली हुई है। नसबंदी के लिए पौने 7 करोड़ खर्च हुए, लेकिन अवारा कुत्तों की जनसंख्या कम होने के बजाए बढ़ती जा रही है। 5 साल पहले अवारा कुत्तों की संख्या 50 हजार के करीब थी जो अब बढ़कर 1 लाख 25 हजार के करीब पहुंच गई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।