टेरर फंडिंग मामले में एसआईए की बड़ी कार्रवाई, दिल्ली और फरीदाबाद में हुई छापेमारी

SIA
अभिनय आकाश । Apr 10, 2022 7:28PM
एसआईए की टीम ने फरीदाबाद और अनंतनाग समेत राजधानी दिल्ली के तीन ठिकानों पर छापेमारी की है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जिस जगह पर छापेमारी हुई है वहां जैश ए मोहम्मद और अन्य आतंकवादी संगठन के मददगारों की गतिविधियों को लेकर जानकारी मिली थी।

जम्मू-कश्मीर की राज्य जांच एजेंसी (एसआईए) ने केंद्र शासित प्रदेश के बाहर अपना पहला अभियान चलाते हुए टेरर फंडिंग मामले में देश की राजधानी दिल्ली के कई ठिकानों पर छापेमारी की है। एसआईए की टीम ने फरीदाबाद और अनंतनाग समेत राजधानी दिल्ली के तीन ठिकानों पर छापेमारी की है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जिस जगह पर छापेमारी हुई है वहां जैश ए मोहम्मद और अन्य आतंकवादी संगठन के मददगारों की गतिविधियों को लेकर जानकारी मिली थी। रिपोर्ट के अनुसार जिन लोगों यहां छापेमारी की गई है उनमें कुछ वकील भी शामिल हैं, जिन्हें जम्मू-कश्मीर और देश के अन्य हिस्सों में आतंकवादी और अलगाववादी नेटवर्क को बनाए रखने के लिए पाकिस्तान स्थित प्रतिबंधित लश्कर-ए-तैयबा आतंकी समूह से कथित रूप से धन प्राप्त हुआ था। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ बड़ी कार्रवाई, LeT का कमांडर निसार डार ढेर, 3 महीने में 45 आतंकियों का सफाया

पांच टीम दिल्ली में अलग अलग स्थानों पर जांच को अंजाम दिया जबकि वहीं एक टीम हरियाणा के फरीदाबाद जिले में जबकि वहीं एक टीम कश्मीर के अनंतनाग जिले में तलाशी अभियान चलाया। अधिकारियों ने दावा किया कि तकनीकी सबूतों ने इस बात की पुष्टि की है कि वे पाकिस्तान स्थित सरगना के लगातार संपर्क में थे।” तलाशी के दौरान डिजिटल उपकरण, सिम कार्ड, मोबाइल फोन और दस्तावेज जैसी संदिग्ध सामग्री बरामद की गई। 

इसे भी पढ़ें: Parliament: संसद के दोनों सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, आज भी जारी रहा विपक्ष का हंगामा

एसआईए ने हाल में श्रीनगर में भारतीय दंड संहिता और गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था। अधिकारियों के अनुसार, यह पता चला है कि लश्कर-ए-तैयबा धन जुटा रहा था और भारत भेज रहा था। तकनीकी साक्ष्य और बैंकिंग लेनदेन ने दिल्ली में तीन लोगों, फरीदाबाद में एक व्यक्ति और अनंतनाग में दो व्यक्तियों की पहचान स्थापित की है जो कथित तौर पर साजिश में शामिल थे।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़