कांग्रेस ने भाजपा पर लगाया आरोप, कहा- मणिपुर में सत्ता बचाने के लिए किया गया जांच एजेंसी का दुरुपयोग

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 25, 2020   22:38
कांग्रेस ने भाजपा पर लगाया आरोप, कहा- मणिपुर में सत्ता बचाने के लिए किया गया जांच एजेंसी का दुरुपयोग

मार्च 2017 में भाजपा की सरकार बनने के बाद के राजनीतिक घटनाक्रमों का उल्लेख करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता अजय माकन ने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ पार्टी ने सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि भाजपा ने मणिपुर की सत्ता में बने रहने के लिए सभी हथकंडे अपनाए और प्रमुख जांच एजेंसी का दुरुपयोग किया। पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता अजय माकन ने एक बयान में कहा, ‘‘मणिपुर में विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद से भाजपा का किसी भी तरह से सत्ता पर काबिज होने और फिर बने रहने का प्रयास रहा।’’ उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘भाजपा ने हर विधायी नियम का उल्लंघन किया, हर अनैतिक हथकंडे का इस्तेमाल किया और प्रमुख जांच एजेंसी का इस्तेमाल किया ताकि मणिपुर की सत्ता में बनी रहे। इस पूरी कवायद में भाजपा ने प्रदेश में लोकतंत्र की हत्या कर दी।’’ 

इसे भी पढ़ें: मंत्रिपद से इस्तीफा दे चुके NPP विधायकों ने बिरेन सरकार के प्रति जताया समर्थन, राज्यपाल को सौंपा पत्र 

मार्च 2017 में भाजपा की सरकार बनने के बाद के राजनीतिक घटनाक्रमों का उल्लेख करते हुए माकन ने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ पार्टी ने सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया। हालिया राजनीतिक उठापठक का उल्लेख करते हुए कांग्रेस नेता ने दावा किया कि मणिपुर विधानसभा के अध्यक्ष ने अपनी भूमिका का सही ढंग से निर्वहन नहीं किया। गौरतलब है कि पिछले दिनों में कई विधायकों के इस्तीफे के बाद एन बिरेन सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार संकट में आ गई थी। हालांकि पिछले दिनों हुए राज्यसभा की एक सीट के चुनाव में भाजपा को जीत मिली और भाजपा सरकार से संकट टल गया।

इसे भी देखें: स्थिर है मणिपुर सरकार, राम माधव ने कहा- बहुमत साबित करने के लिए हम तैयार 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।