ऐसा है भाजपा और टीआरएस के चिर-प्रतिद्वंद्वी बनने का सफर, कभी करते थे एक-दूसरे का पुरजोर समर्थन

KCR with PM Modi
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
के चंद्रशेखर राव 2014 से तेलंगाना में सत्ता में हैं। दो-दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी के लिए हैदराबाद पहुंचे, भाजपा के कुछ नेताओं ने राव की तुलना शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से की और कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री (राव) का महाराष्ट्र के नेता (ठाकरे) जैसा ही हश्र होगा।

हैदराबाद। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने तकरीबन पांच साल पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का पुरजोर समर्थन किया था और उनकी पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) को भी संसद में अहम मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की पैरवी करते हुए अक्सर देखा जाता था। लेकिन अब उनके और भाजपा के बीच रिश्ते इस कदर बदल गये हैं कि राव ने शनिवार को प्रधानमंत्री के शहर में आगमन पर होने वाले रस्मी समारोह से खुद को दूर रखा। मोदी भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल होने आए हैं, जिसमें तेलंगाना के मुख्यमंत्री को सत्ता से बेदखल करने समेत कई मुद्दों पर चर्चा की योजना है।

इसे भी पढ़ें: 'जब बाघ आता है तो भाग जाती हैं लोमड़ियां', KCR ने नहीं की PM मोदी की आगवानी तो संजय कुमार बोले- यहां फहराएंगे कमल के झंडे 

मोदी की अगवानी करने के बजाय राव ने यहां विपक्ष के राष्ट्रपति पद के साझे उम्मीदवार यशवंत सिन्हा का भव्य स्वागत किया। मोदी के आगमन के दिन ही सिन्हा के यहां आने को महज संयोग नहीं माना जा रहा है। टीआरएस ने इस बैठक को ‘‘सर्कस’’ बताते हुए कहा है कि इसमें देश से राजनीतिक ‘‘पर्यटक’’ एकत्रित होंगे। हालांकि, भाजपा ने राव पर आरोप लगाया है कि उन्होंने एक बार फिर प्रधानमंत्री के रस्मी स्वागत समारोह में शामिल न होकर किसी व्यक्ति को नहीं, बल्कि एक संस्था को अपमानित किया है। रावजहां विभिन्न राज्यों और राष्ट्रीय राजधानी का दौरा कर भाजपा के खिलाफ राष्ट्रीय स्तर पर विपक्षी दलों का व्यापक गठबंधन बनाने का प्रयास कर रहे हैं, वहीं भाजपा ने उन्हें राज्य की सत्ता से बेदखल करने की कोशिशों को दोगुना कर दिया है।

राव 2014 से तेलंगाना में सत्ता में हैं। दो-दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी के लिए हैदराबाद पहुंचे, भाजपा के कुछ नेताओं ने राव की तुलना शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से की और कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री (राव) का महाराष्ट्र के नेता (ठाकरे) जैसा ही हश्र होगा। यह बैठक ठाकरे-नीत महा विकास आघाड़ी सरकार के सत्ता से बाहर होने और भाजपा तथा शिवसेना के बागी गुट की अगुवाई वाले गठबंधन के शपथ ग्रहण के कुछ दिन बाद हो रही है। कभी टीआरएस के भाजपा से मधुर संबंध हुआ करते थे, लेकिन मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के 2019 में दोबारा सत्ता में आने के बाद दोनों दलों के रिश्तों में धीरे-धीरे खटास आने लगी। टीआरएस 2009 के लोकसभा चुनावों के दौरान भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का एक हिस्सा थी।

इसे भी पढ़ें: केसीआर की खुली चुनौती, बीजेपी महाराष्ट्र जैसी कोशिश तेलंगाना में करेगी, मैं मोदी सरकार गिरा दूंगा 

भाजपा नेताओं ने आरोप लगाया कि राज्य में पार्टी की संभावित वृद्धि को भांपने के बाद राव ‘‘हताश और क्रुद्ध’’ हैं। तेलंगाना में चार लोकसभा सीट जीतकर सबको हैरत में डालने के बाद भाजपा ने राज्य में विपक्ष की जगह भरने की कोशिश की। साथ ही, उसने विधानसभा उपचुनाव की दो अहम सीट पर जीत दर्ज की और हैदराबाद नगर निगम चुनावों में भी अच्छा प्रदर्शन किया। भाजपा नेताओं ने कहा कि पार्टी के अच्छे प्रदर्शन ने टीआरएस को चिंता में डाल दिया है। भाजपा का बैठक के लिए हैदराबाद को चुनने का फैसला इस बात का स्पष्ट संकेत समझा जा रहा है कि पार्टी उन राज्यों में विस्तार करना चाहती है, जहां वह अपेक्षाकृत कमजोर है और तेलंगाना उसकी शीर्ष प्राथमिकता में है। केंद्र में 2014 में सत्ता में आने से बाद से यह चौथी बार है जब पार्टी दिल्ली से बाहर राष्ट्रीय कार्यकारिणी की अहम बैठक कर रही है। उसने इससे पहले 2017 में ओडिशा, 2016 में केरल और 2015 में बेंगलुरु में बैठक की थी। इन सभी राज्यों का चयन भाजपा ने वहां अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए किया था। यद्यपि भाजपा ने कर्नाटक में कांग्रेस को सत्ता से उखाड़ फेंका, लेकिन इसे ओडिशा में सीमित सफलता मिली है तथा केरल में भी इसने मामूली छाप छोड़ी है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़