रथों में तोड़फोड़ पर भड़की बीजेपी, कहा- EC को लेना चाहिए संज्ञान

रथों में तोड़फोड़ पर भड़की बीजेपी, कहा- EC को लेना चाहिए संज्ञान

पश्चिम बंगाल के नॉर्थ 24 परगना में पार्टी कार्यालय में तोड़फोड़ को लेकर बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इस हमले की निंदा की। उन्होंने कहा कि अगर इसी प्रकार की गतिविधियां चलती रहीं तो लोग निडर होकर वोट नहीं डालेंगे। चुनाव आयोग को इसे संज्ञान में लेना चाहिए।

पश्चिम बंगाल चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद भी वहां हिंसा नहीं थम रही है। बीजेपी की परिवर्तन रथ यात्रा में बीती रात तोड़फोड़ की गई। ये तोड़फोड़ कोलकाला कांदापाड़ा इलाके में हुई है। जिसकी शिकायत बीजेपी नेता ने पुलिस में की है। बीजेपी की ओर से फूलबागान थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है। बीजेपी का कहना है कि ये तोड़फोड़ टीएमसी समर्थकों ने की है। बीजेपी ने आरोप लगाया कि टीएमसी समर्थकों ने रात में हमला कर पहले रथ के ड्राइवर से मारपीट की और फिर एलईडी स्क्रीन को तोड़ दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: सियासी दंगल में किसका होगा मंगल? नेताओं के वार-पलटवार में दिख रही तकरार

पश्चिम बंगाल के नॉर्थ 24 परगना में पार्टी कार्यालय में तोड़फोड़ को लेकर बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इस हमले की निंदा की। उन्होंने कहा कि अगर इसी प्रकार की गतिविधियां चलती रहीं तो लोग निडर होकर वोट नहीं डालेंगे। चुनाव आयोग को इसे संज्ञान में लेना चाहिए। हमारा प्रतिनिधिमंडल भी आज चुनाव आयोग से मिलने वाला है।

गुंडों ने चुनाव आयोग को दी चुनौती: विजयवर्गीय

इससे पहले विजयवर्गीय ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि चुनाव आयोग ने बंगाल चुनाव तिथि की घोषणा की और टीएमसी के गुंडों ने बिना डर के रात 11 बजे बीजेपी के कारपाड़ा गोदाम में घुसकर एलईडी गाड़ियां फोड़ी और एलईडी भी खोलकर ले गए। शायद गुंडों ने चुनाव आयोग को चुनौती दी है। 

अमित मालवीय ने साधा निशाना

बीजेपी नेता अमित मालवीय ने बीजेपी दफ्तर में हुए हमले का एक वीडियो ट्वीट किया और टीएमसी पर निशाना साधा। उन्होंने लिखा टीएमसी के लोगों ने गोदाम में खड़े बीजेपी के रथों को तोड़ दिया। रथों को नुकसान पहुंचाया और एलईडी चुरा ली। टीएमसी की इस तरह की चुनावी हिंसा से चुनाव आयोग के लिए भी इन चुनावों को करवाना चुनौतीपूर्ण होगा। पश्चिम बंगाल के लोग इसका जवाब देंगे।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।