भाजपा ने राहुल गांधी पर कसा तंज, कहा- चिदंबरम से लेना चाहिए ट्यूशन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2020   16:38
भाजपा ने राहुल गांधी पर कसा तंज, कहा- चिदंबरम से लेना चाहिए ट्यूशन

भाजपा ने जोर दे कर कहा कि मोदी सरकार ने किसी का रिण माफ नहीं किया है। भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ‘‘ राहुल गांधी को कर्ज ‘बट्टे खाते में डालने’ और ‘माफ करने’ के बीच अंतर समझने के लिये पी चिदंबरम से ट्यूशन लेना चाहिए।’’

नयी दिल्ली। राहुल गांधी पर तंज करते हुए भाजपा ने बुधवार को कहा कि पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष को कर्ज ‘‘बट्टे खाते में डालने’’ और ‘‘माफ करने’’ के बीच अंतर समझने के लिये पूर्व वित्त मंत्री और अपनी पार्टी के सहयोगी पी चिदंबरम से ‘‘ट्यूशन’’ लेना चाहिए। भाजपा ने जोर दे कर कहा कि मोदी सरकार ने किसी का रिण माफ नहीं किया है। भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ‘‘ राहुल गांधी को कर्ज ‘बट्टे खाते में डालने’ और ‘माफ करने’ के बीच अंतर समझने के लिये पी चिदंबरम से ट्यूशन लेना चाहिए।’’ 

इसे भी पढ़ें: Finance Minister ने दिया जवाब, कहा, Willful Defaulters पर कितनी हो चुकी है कार्रवाई 

उन्होंने ट्वीट किया ‘‘बट्टा खाता में डालना लेखांकन की एक सामान्य प्रक्रिया है और इससे चूककर्ता के खिलाफ वसूली या कार्रवाई पर रोक नहीं लगती है।’’ उन्होंने जोर दे कर कहा कि नरेन्द्र मोदी सरकार ने किसी का भी रिण माफ नहीं किया है। गौरतलब है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरटीआई के तहत पूछे गए एक सवाल के जवाब में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा दी गई, बैंक रिण चूककर्ताओं की सूची का जिक्र करते हुए कहा था कि उन्होंने संसद में एक सवाल में सरकार से बैंक घोटालेबाजों के नाम पूछे थे लेकिन उन्हें जवाब नहीं दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: सीएम गहलोत बोले, प्रदेश में हो रही ज्यादा जांच ताकि कोई मामला छिपा न रहे 

राहुल ने ट्वीट किया था कि संसद में मैंने एक सीधा सा प्रश्न पूछा था- मुझे देश के 50 सबसे बड़े बैंक चूककर्ताओं के नाम बताइए। वित्त मंत्री ने जवाब नहीं दिया। अब रिजर्व बैंक ने नीरव मोदी, मेहुल चोकसी सहित भाजपा के कई मित्रों के नाम इस सूची में डाले हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।