रिम्स निदेशक के इस्तीफे पर बीजेपी बोली, कांग्रेस के दबाव में सरकार ने इसे स्वीकारा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 25, 2020   07:38
रिम्स निदेशक के इस्तीफे पर बीजेपी बोली, कांग्रेस के दबाव में सरकार ने इसे स्वीकारा

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रदीप वर्मा ने आरोप लगाया कि हेमंत सोरेन सरकार अपने सहयोगी दल कांग्रेस के दबाव में बुरी तरह घिर चुकी है, इसीलिये इस महामारी के दौर में उन्होंने रिम्स के निर्देशक का इस्तीफा आज स्वीकार कर लिया।

रांची। भाजपा ने राज्य के सबसे बड़े चिकित्सा संस्थान एवं अस्पताल राजेन्द्र आयुर्विग्यान संस्थान के निदेशक डा. डीके सिंह का इस्तीफा कोरोना संक्रमण महामारी के बीच स्वीकार किये जाने के सरकार के फैसले की तीखी आलोचना करते हुए बुधवार को आरोप लगाया कि वह कांग्रेस के दबाव में ऐसा कर रही है। भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रदीप वर्मा ने आरोप लगाया कि हेमंत सोरेन सरकार अपने सहयोगी दल कांग्रेस के दबाव में बुरी तरह घिर चुकी है, इसीलिये इस महामारी के दौर में उन्होंने रिम्स के निर्देशक का इस्तीफा आज स्वीकार कर लिया। वर्मा ने आरोप लगाया कि निदेशक ने स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता की मनमानी पर रोक लगा रखी थी। 

इसे भी पढ़ें: झारखंड में कोरोना वायरस संक्रमण के 53 नये मामले, संक्रमितों की संख्या 2193 हुई

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री की छटपटाहट उसी वक्तजाहिर हो गई थी जब लगभग एक माह पूर्व उन्होंने बिना मुख्यमंत्री के आदेश के ही निदेशक का इस्तीफा स्वीकार कर दूसरे निदेशक की नियुक्ति भी कर दी थी। उन्होंने कहा कि सरकार के मंत्री नियम विरुद्ध दबाव बनाकर झारखंड को फिर से भ्रष्टाचार में झोंकना चाहते हैं। मंत्री और विभागीय सचिव के विरोधाभासी बयान से इस तरह की स्थिति स्पष्ट है। वर्मा ने सवाल किया, ‘‘मुख्यमंत्री की नजरों में कल तक निदेशक अच्छे थे तो आज वह दोषी कैसे हो गए?’’ ज्ञातव्य है कि मुख्यमंत्री ने आज रिम्स के निदेशक का इस्तीफा स्वीकार कर उनकी यहां से छुट्टी कर दी है। रिम्स के निदेशक डा. डीके सिंह का पंजाब में पटियाला के एम्स में निदेशक के पद पर पहले ही चयन हो चुका है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।