ममता बनर्जी पर भाजपा का पलटवार, अमित मालवीय बोले- उन्हें लूट का हिसाब देना होगा

amit malviye
ANI
अंकित सिंह । Sep 20, 2022 5:50PM
भाजपा ने इस प्रस्ताव का जबरदस्त तरीके से विरोध किया। इस दौरान ममता बनर्जी ने साफ तौर पर कहा कि मुझे नहीं लगता कि नरेंद्र मोदी सीबीआई ईडी का दुरुपयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कुछ भाजपा नेता अपने हितों के लिए ऐसा कर रहे हैं। ममता ने मोदी से आग्रह करते हुए कहा कि सरकार और पार्टी के कामकाज को अलग रखा जाना चाहिए। यह देश के लिए अच्छा होगा।

ममता बनर्जी एक ओर भाजपा पर तो हमलावर हैं, लेकिन वहीं दूसरी ओर नरेंद्र मोदी को लेकर उनका रुख नरम है। इतना ही नहीं, कुछ दिन पहले उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की भी सराहना की थी। उसके बाद से यह सवाल उठ रहे हैं कि आखिर ममता बनर्जी के बदले तेवर का राज क्या है। दरअसल, पश्चिम बंगाल विधानसभा में केंद्रीय एजेंसियों की कथित ज्यादतियों को लेकर एक प्रस्ताव पारित किया गया है। वहीं, भाजपा ने इस प्रस्ताव का जबरदस्त तरीके से विरोध किया। इस दौरान ममता बनर्जी ने साफ तौर पर कहा कि मुझे नहीं लगता कि नरेंद्र मोदी सीबीआई ईडी का दुरुपयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कुछ भाजपा नेता अपने हितों के लिए ऐसा कर रहे हैं। ममता ने मोदी से आग्रह करते हुए कहा कि सरकार और पार्टी के कामकाज को अलग रखा जाना चाहिए। यह देश के लिए अच्छा होगा। 

इसे भी पढ़ें: देश में PM In Waiting की लंबी है कतार, अपनी ताकत दिखाने को हर कोई बेकरार, चुनावी जुमलों की हो रही बौछार

हालांकि, ममता के इसी बयान पर भाजपा की ओर से पलटवार किया गया है। भाजपा के पश्चिम बंगाल के सह प्रभारी अमित मालवीय ने ट्वीट कर लिखा कि भाजपा में किसी को और खासकर के प्रधानमंत्री को ममता बनर्जी से किसी मान्यता की आवश्यकता नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि उनकी पूरी सरकार, उनकी पूरी सरकार, शीर्ष मंत्री, पार्टी पदाधिकारी और परिवार के सदस्य केंद्रीय एजेंसियों के रडार पर हैं क्योंकि अदालतों ने जांच का आदेश दिए हैं। अमित मालवीय ने ममता पर निशाना साधते हुए साफ तौर पर कहा कि उन्हें लूट का हिसाब देना होगा। इससे पहले भाजपा के शुभेंदु अधिकारी ने कहा था कि केंद्रीय एजेंसियों के खिलाफ प्रस्ताव पारित करना संवैधानिक नहीं है। 'बांग्ला' (पश्चिम बंगाल से) नाम लागू नहीं हुआ, वैसे ही ऐसा नहीं होगा। टीएमसी के हर भ्रष्ट नेता को जेल जाना होगा।

इसे भी पढ़ें: ED-CBI के खिलाफ बंगाल विधानसभा से प्रस्ताव पारित, ममता बोलीं- इसमें PM मोदी का हाथ नहीं, लेकिन...

माना जा रहा है कि जिस तरीके से पश्चिम बंगाल में केंद्रीय एजेंसियों की कार्यवाही चल रही है, उससे तृणमूल कांग्रेस की छवि पर पड़ा प्रभाव पड़ा है। तृणमूल कांग्रेस की छवि काफी साफ रही है। इसकी वजह से ममता भी ईमानदार नेताओं की सूची में आती थीं। लेकिन जिस तरीके से तृणमूल कांग्रेस के बड़े नेताओं पर इन दिनों आरोप लगे हैं और उसमें खुलासे हुए हैं, उसके बाद से जनता में कई संदेश गए हैं। पश्चिम बंगाल में भ्रष्टाचार पर अब बहस शुरू हो चुकी है। भाजपा और वामपंथी दल जबरदस्त तरीके से ममता बनर्जी पर हमलावर हैं। पशु तस्करी घोटाला, शिक्षक भर्ती घोटाला, कोयला तस्करी जैसे मामलों में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं की गिरफ्तारी हुई है। आगे भी ईडी और सीबीआई इस मामले में छापेमारी और कार्यवाही कर रहे हैं। 

अन्य न्यूज़