लॉकडाउन के दौरान आप सरकार की मुख्यमंत्री खाद्य कूपन योजना की भाजपा ने की आलोचना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2020   18:33
लॉकडाउन के दौरान आप सरकार की मुख्यमंत्री खाद्य कूपन योजना की भाजपा ने की आलोचना

गंभीर ने ट्वीट कर कहा, दो हजार राशन कूपनों के लिये शुक्रिया अ​रविंद केजरीवाल जी, लेकिन मेरे कार्यकर्ताओं के पास जरूरत के अनुसार वि​तरित करने के लिये पर्याप्त खाद्य सामग्री है।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के सभी सांसदों एवं विधायकों को केजरीवाल सरकार की ओर से लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंदों के बीच वितरित करने के लिये दो—दो हजार खाद्य कूपन दिये जाने की योजना भाजपा को प्रभावित करने में विफल रही है और पार्टी नेताओं ने इसे जटिल एवं देर से लाया गया करार दिया है। पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर ने कूपनों को लेने से मना कर दिया है और जरूरतमंदों के बीच राशन उपलब्ध कराने की पेशकश की है।

गंभीर ने ट्वीट कर कहा, दो हजार राशन कूपनों के लिये शुक्रिया अ​रविंद केजरीवाल जी, लेकिन मेरे कार्यकर्ताओं के पास जरूरत के अनुसार वि​तरित करने के लिये पर्याप्त खाद्य सामग्री है। इन्हें कृपया इलाके के ​विधायकों एवं पार्षदों को दे दीजिये। अगर जरूरत पड़ती है, तो मैं उनलोगों को और राशन भेज सकता हूं जो वि​तरित करना चाहते हैं। कृपया मुझे जानकारी दें। ’ भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने दावा किया कि खाद्य कूपन के बारे में उन्हें सरकार से कोई जानकारी नहीं मिली है। तिवारी ने कहा, दिल्ली सरकार से मुझे न तो कोई कूपन मिला है और न ही कोई सूचना मिली है। यह कदम थोड़ा देर से उठाया गया है क्योंकि लॉकडाउन तीन मई को समाप्त हो सकता है। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने इस महीने इससे पहले घोषणा की थी कि सरकार सभी विधायकों एवं सांसदों को दो दो हजार खाद्य कूपन देगी ताकि लॉकडाउन के दौरान वह जरूरतमंदों के बीच अपने अपने संबंधित निर्वाचन क्षेत्र में वितरित कर सके। दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता रामवीर सिंह विधूड़ी ने कहा कि आपातकालीन खाद्य कूपन वि​तरित करने की प्रक्रिया जटिल है जिससे लाभार्थियों तक मदद पहुंचाने में विलंब होगा। दिल्ली में भाजपा के सात लोकसभा सदस्य और आठ विधायक हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।