भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कमलनाथ को बताया मानसिक रूप से दरिद्र

Kailash Vijayvargiya
सूबे के कांग्रेस विधायकों का इस पार्टी से नाता तोड़कर भाजपा में शामिल होने का सिलसिला जारी रहने पर विजयवर्गीय ने दावा किया कि कांग्रेस का राष्ट्रीय और प्रादेशिक नेतृत्व अपने कार्यकर्ताओं का विश्वास खो चुका है।
इंदौर। भाजपा नेता इमरती देवी पर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की विवादास्पद टिप्पणी की पृष्ठभूमि में भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने 73 वर्षीय कांग्रेस नेता को सोमवार को मानसिक रूप से दरिद्र बताया और दावा किया कि उनकी शब्दों की दरिद्रता से सूबे की सियासी साख खराब हुई है।  विजयवर्गीय ने यहां संवाददाताओं से कहा, कमलनाथ के पास बहुत सारी संपत्ति है, करोड़ों रुपये हैं, पर वह मानसिक रूप से दरिद्र हैं। जब कोई व्यक्ति मानसिक रूप से दरिद्र होता है, तो उसकी शब्दों की दरिद्रता सामने आती है। 

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ मायावी हैं, ये फिर मायाजाल बिछाएंगे, इनकी माया से दूर रहना है : शिवराज सिंह चौहान

उन्होंने इमरती देवी पर कमलनाथ की विवादास्पद टिप्पणी को लेकर कहा, कमलनाथ ने जिस तरह शब्दों की दरिद्रता दिखाई है, उससे मध्यप्रदेश की राजनीतिक प्रतिष्ठा खराब हुई है। सूबे के कांग्रेस विधायकों का इस पार्टी से नाता तोड़कर भाजपा में शामिल होने का सिलसिला जारी रहने पर विजयवर्गीय ने दावा किया कि कांग्रेस का राष्ट्रीय और प्रादेशिक नेतृत्व अपने कार्यकर्ताओं का विश्वास खो चुका है। उन्होंने कहा, अब भी बहुत सारे लोग, खासकर युवा नेता कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आना चाहते हैं क्योंकि वे अपने सियासी भविष्य के मद्देनजर खुद को कांग्रेस में असुरक्षित महसूस कर रहे हैं।  

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ बताएं, उद्योगपति नहीं हैं तो अरबों की संपत्ति कहां से आई: शिवराज सिंह चौहान

विधायकों की खरीद-फरोख्त को लेकर कांग्रेस नेताओं द्वारा भाजपा पर लगाए जा रहे आरोपों को खारिज करते हुए विजयवर्गीय ने कहा, वे (कांग्रेस नेता) अपने विधायकों को खुद संभाल नहीं पा रहे हैं। ऐसे में उन्हें दूसरों पर आरोप नहीं लगाने चाहिए। उन्होंने कहा, अगर कांग्रेस नेता बोल रहे हैं कि उनके कार्यकर्ता बिक रहे हैं, तो ऐसा कहकर वे अपने कार्यकर्ताओं का ही अपमान कर रहे हैं। भाजपा महासचिव ने यह आरोप भी लगाया कि वरिष्ठ कांग्रेस नेता राहुल गांधी भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर गैर जिम्मेदाराना बयान देकर भारत के उन वीर सैनिकों का अपमान कर रहे हैं जो देश की सरहदों की हिफाजत के लिए अपने प्राणों की आहुति दे रहे हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़