भाजपा सरकार ने सीबीआई को ‘कलेक्शन ब्यूरो’ में बदल दिया: चंद्रबाबू नायडू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 21, 2018   19:43
भाजपा सरकार ने सीबीआई को ‘कलेक्शन ब्यूरो’ में बदल दिया: चंद्रबाबू नायडू

अधिकारी ने अजीत डोभाल (राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार) और केंद्रीय कानून सचिव की दखलअंदाजी पर उच्चतम न्यायालय में एक हलफनामा दाखिल किया है।’’

अमरावती। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने बुधवार को भाजपा नीत राजग सरकार पर केंद्रीय जांच ब्यूरो को ‘‘क्लेक्शन ब्यूरो’’ में बदलने और भारतीय रिजर्व बैंक की स्वायत्तता को नष्ट करने का आरोप लगाया। राज्य सरकार ने हाल ही में केंद्रीय जांच ब्यूरो को राज्य में छापे मारने और जांच करने के लिए दी ‘‘आम सहमति’’ वापस ले ली थी। मुख्यमंत्री ने उच्चतम न्यायालय में सीबीआई के डीआईजी मनीष कुमार सिन्हा की याचिका का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘सीबीआई के एक अधिकारी ने खुद यह खुलासा किया कि प्रधानमंत्री कार्यालय एजेंसी के कामकाज में दखल दे रहा है। अधिकारी ने अजीत डोभाल (राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार) और केंद्रीय कानून सचिव की दखलअंदाजी पर उच्चतम न्यायालय में एक हलफनामा दाखिल किया है।’’

तेलुगु देशम पार्टी ने एक विज्ञप्ति में कहा कि नायडू ने बुधवार को पार्टी नेताओं के साथ एक टेलीकॉन्फ्रेंस में ये टिप्पणियां की। केंद्र में भाजपा के नेतृत्व वाली राजग सरकार पर निशाना साधते हुए तेदेपा सुप्रीमो ने उस पर सीबीआई को ‘क्लेक्शन ब्यूरो’ में बदलने और भारतीय रिजर्व बैंक की आजादी खत्म करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘‘राफेल देश का सबसे बड़ा रक्षा घोटाला है। भाजपा देश की सुरक्षा को खतरे में डाल रही है। मोदी सरकार ने अपने 54 महीनों के शासनकाल में कोई बड़ा कार्यक्रम शुरू नहीं किया।’’

उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर नियंत्रण लगाने में नाकाम रहा जबकि रुपये की कीमत भयानक रूप से गिरी।।नायडू ने कहा, ‘‘मैंने आंध्र प्रदेश को हर आयाम में नंबर एक बनाया। मेरी क्षमताएं राज्य के लिए उपयोगी होनी चाहिए क्योंकि मैं इसे दुनिया में नंबर एक बनाना चाहता हूं।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।