पैसों के अभाव में इस भाजपा नेता ने की आत्महत्या, छोड़ा 3 पन्नों का सुसाइड नोट

BJP leader committed suicide
प्रतिरूप फोटो
असम के लखीमपुर जिले में भाजपा के एक स्थानीय नेता ने आर्थिक तंगी के कारण कथित तौर पर अपने घर पर आत्महत्या कर ली। दास ने तीन पन्नों का हाथ से लिखा एक सुसाइड नोट छोड़ा है, जिसमें विभिन्न लोगों के नाम हैं, जिनपर उनकी बड़ी रकम बकाया थी। उन्होंने लिखा है, कुल मिलाकर लगभग 50 लाख रुपये बकाया हैं।

लखीमपुर, असम के लखीमपुर जिले में भाजपा के एक स्थानीय नेता ने आर्थिक तंगी के कारण कथित तौर पर अपने घर पर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी। लालुक पुलिस थाना प्रभारी (ओसी) सूरज डोले ने कहा कि व्यक्ति की पहचान मिथुनरंजन दास के रूप में हुई है। उन्होंने कहा, सोमवार सुबह सूचना मिलने के बाद हमारी टीम मौके पर पहुंची और उनके घर के एक कमरे में शव लटका हुआ पाया। शव को पोस्टमॉर्टम और अन्य आवश्यक औपचारिकताओं के लिए भेज दिया।

इसे भी पढ़ें: गुरुग्राम में अवैध संबंध के शक में व्यक्ति ने बहू समेत 4 लोगों को उतारा मौत के घाट

डोले ने कहा कि दास ने तीन पन्नों का हाथ से लिखा एक सुसाइड नोट छोड़ा है, जिसमें विभिन्न लोगों के नाम हैं, जिनपर उनकी बड़ी रकम बकाया थी। बांग्ला में लिखे नोट की एक प्रति पीटीआई- के पास उपलब्ध है। इसमें उन्होंने अपनी पत्नी तनु को संबोधित करते हुए कहा है कि सरकारी एजेंसियों और व्यक्तियों पर उनके लाखों रुपये बकाया हैं। उन्होंने लिखा है, कुल मिलाकर लगभग 50 लाख रुपये बकाया हैं, जिसमें लालुक कॉलेज में एक कोविड केयर सेंटर में भोजन की आपूर्ति के लिए सरकार पर बकाया 17 लाख रुपये भी शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: न्याय की उम्मीद में पिता ने 22 दिनों तक डीप फ्रीजर में रखा बेटे का शव, जानिए पूरा मामला

दास की पत्नी तनु ने आरोप लगाया कि दास ने जल संसाधन और पीडब्ल्यूडी जैसे विभिन्न सरकारी विभागों से जो बड़े ठेके लिये, उनका अनुबंध भुगतान नहीं किया गया। तनु ने कहा, उन्होंने अनुबंध पर काम करने के लिए विभिन्न व्यक्तियों से ऋण लिया था। हालांकि, उन्हें पूरा करने के महीनों बाद भी, कोई भुगतान नहीं किया गया। इसने हमारे दैनिक जीवन को बुरी तरह प्रभावित किया और वह भारी मानसिक तनाव में थे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़