प्रदेश की कांग्रेस सरकार अब एटीएम से यूटीएम हो गई है : संतोष पाण्डेय

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 12, 2021   23:12
प्रदेश की कांग्रेस सरकार अब एटीएम से यूटीएम हो गई है :  संतोष पाण्डेय

देश के अन्य राज्यों में जब भी चुनाव आता है मुख्यमंत्री भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ के लिए प्रवासी मुख्यमंत्री हो जाते है और कभी कभी उनकी भूमिका संविदा मुख्यमंत्री की तरह भी हो जाती है।

रायपुर। सांसद संतोष पाण्डेय ने प्रदेश सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि एक समय पर एटीएम का मतलब असम ट्रांसफर मनी हो गया था तो अब यूटीएम का मतलब उत्तर प्रदेश मनी ट्रांसफर हो गया है। देश के अन्य राज्यों में जब भी चुनाव आता है मुख्यमंत्री भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ के लिए प्रवासी मुख्यमंत्री हो जाते है और कभी कभी उनकी भूमिका संविदा मुख्यमंत्री की तरह भी हो जाती है। इस भ्रम के कारण प्रदेश की जनता इन 32 महीनों में यह समझ नहीं पायी है कि आखिरकार कांग्रेस की सरकार प्रदेश की जनता के लिए जिम्मेदार है या दिल्ली में बैठी गांधी परिवार के लिए है। उन्होंने कहा कि जब से प्रियंका गांधी किसी भी राज्य में प्रचार के लिए जाती है तो मुख्यमंत्री भूपेश बघेल उन राज्यों में प्रोटोकाॅल अधिकारी की तरह हमेशा मौजूद रहते हैं।


सांसद पाण्डेय ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का स्वाभाव ही बन गया है कि जब भी छत्तीसगढ़ परेशान और पीड़ित रहा है तो अपनी जिम्मेदारियों को छोड़कर वह केवल गांधी परिवार के सेवा में तैनात रहे हैं भले ही अवसर चुनाव का ही क्यों ना हों। जब प्रदेश में कोरोना की स्थिति भयावह थी तब असम में वह अपने असफल चुनावी प्रबंधन में लगे हुए थे और जिसका नतीजा वहां कांग्रेस को करारी हार मिला। अब एक बार फिर से यूपी में प्रियंका गांधी के साथ अपने आगामी पराजय के लिए असफल रणनीति बनाने में जुट गए हैं वह भी ऐसे वक्त में जब कवर्धा की परिस्थितियां नाजुक थी। प्रदेश के मौनी गृह मंत्री व अपने पुलिस के कांग्रेस प्रवक्ता जैसे एक आला अधिकारी के भरोसे कवर्धा को जलने के लिए छोड़ दिया था और जो दोषी है उनके समर्थन में पूरी सरकार खड़ी है। इससे स्पष्ट है कि प्रदेश सरकार केवल समाज को प्रताड़ित कर अपनी राजनीति में लगी हुई है जो बेहद ही चिंताजनक है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।